जीवन





''जीवन''में आगे बढ़ने के लिए हार मत मानिए। ''जीवन ''की राह पर चलते हुए पीछे मत देखिए।
हर किसी के जिंदगी में कुछ न कुछ चलते ही रहता है। उन मे से कुछ घटनाएं सुखद होती है , तो कुछ दुखत होती है।



जीवन की परिभाषा 

जीवन  सागर में चलने वाली नाव की तरह है। जिस तरह नाव सागर में  एक किनारे से दुसरे किनारे पर लोगों को लाना छोड़ना करती है , वैसे ही जीवन की नैय्या को भी दो किनारे है।

सुख और दुःख

जीवन जीते समय 
सुख की कीमत नही समजती 
जब दुःख आता है 
तब, उस दुख के साथ आगे बढ़ने की 
हिम्मत किसी मे नही होती  

जीवनरूपी राह काँटों से बनी हैं। इस राह पर फूलों की बाहर करने के लिए इंसान को बहुत मेहनत करनी पड़ती है। अंधकार से घिरे जीवन को उजाले उजालें में परिवर्तन करने के लिए पहले खुद को तयार करना पड़ता है। हम में होनेवाली कमियों को खुद ढूढ़िए और सबसे पहले उन कमियों को ध्यान में लेकर उन्हें खुद सुधारने की कोशिस करो। जीवन सुखद बनाने के लिए मन हमेशा खुश रखना चाहिए। यदि मन खुश नही तो हमारा हर काम फेल होता है। मन हमेशा निर्मल चाहिए। मन हमेशा फूलों की तरह तरोताजा रखना चाहिए। मन फूलों की तरह सुगंधित रहना चाहिए।हर काम में मन का साथ होना बहुत आवश्यक हैं

अपना जीवन कैसे बनाए ?

इस प्रश्न का उत्तर खुद हमारे पास ही है। जिन्हें जीवन जीने की कला ज्ञान होती हैं। वही लोग जीवन का सच्चा आनंद लेते है। उन्हीको जीवन का मजा लेते आता हैं। अगर कोई सोचे की मैं कमजोर हु। जीवन में मैं आगें नही बढ़ सकता। जीवन में आगे बढ़ने के लिए हमारी सोच मजबूत होना बहोत आवश्यक हैं। हर इंसान को ''जीवन '' वरदान में मिला हैं। खुद से प्यार करनेवाला इंसान ही ''जीवन ''को खुशियों से भरता हैं।


''जीवन '' एक अनमोल रत्न हैं। 
''जीवन '' एक धागा हैं। 
''जीवन ''एक कोरा कागज है। 
''जीवन ''वरदान में मिला हुआ पल है। 
''जीवन '' ''जीवन '' है। 
गुड्डा -गुड्डी का खेल नही 
''जीवन'' है ऐसा धागा 
उसे Success बनाने के लिए होती है,लिमिटेट जगा। 
''जीवन ''यह खेल नही। 
''जीवन'' हमारा अनमोल है।  
फिर भी ''मानव ''जीवन '' से खेल खेलता है। 
जिसका भाव विश्व समृद्ध तथा विपुल है। 
वही इंसान जीवन का सही आनंद ले सकता है।


''जीवन ''Maths हैं। 
''प्यार '' उसका '+' point है 
''शादी ''उसका '-' point  है 
''संसार '' उसका 'x'point है 
'' बच्चे '' उसका '≑'point हैं
''सास -ससूर सभी का Formula है। 

आखिर में ''मरणा '' ही उसका Answer है।

यह भी जरूर पढ़े
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.