संविधान के निर्दिष्टीकरण / Specifications of the constitution


(ब) 



a) लिखित संविधान : -

ब्रिटिश संविधान अलिखित है। Federal जैसी राज्यव्यवस्था लिखित रहती है। भारत का संविधान लिखित है।

b) सबसे बढ़ा संविधान :-

संविधान बढ़ा होने के पॉइन्ड

* संविधान का मुख्य स्त्रोत Govt.of India Act १९३५ यह बहुत बढ़ा है इस कारण संविधान बहुत बढ़ा है।

* संविधान केंद्र और राज्य के लिए एक ही है , राज्य को स्वतंत्र संविधान नहीं है।

* संविधान में प्रशासनिक मामलों का समावेश किया गया है।

* विषमता दूर करने के लिए संविधान में विशेष तरतूद की गई है।

* अल्पसंख्यांक और मागासवर्गीय लोगों के लिए विशेष तरतुत की गई है।

c) सरनामा :-

सविधान के तत्वज्ञान और मानवी मानव जीवन मूल्य इनका समावेश सरनामा में किया गया है। के.एम.मुन्शी के नुसार सरनामा सविधान का आत्मा है, भाग है।

d) ताठर और लवचिक :-

 संविधान अधिक लवचिक और कम ताठर है। '' मूलभुत ढाचा-मूलभूत तत्वे '' वगड़ता संविधान के किसी भी भाग में सुधार किया जा सकता है। दुरुस्ती के लिए संसद के विशेष बहुमत की गरज रहती है। कुछ दुरुस्ती के लिए संसद के विशेष बहुमत के साथ में 50 टक्के राज्य विधिमंडल के बहुमत की मंजूरी लगती है।

e) सार्वभौम : - 

भारत खुद का निर्णय खुद लेता है।

f ) गणराज्य : - 

राष्ट्रप्रमुख इस पद के लिए चुनाव के माध्यम से योग्य व्यक्ति चुन के देना बढ़ता है। वंश परंपरा के नुसार किसी भी व्यक्ति को चुना नहीं जाता।

g) संसदीय शासन प्रणाली :-

इस पद्धति में कार्यकारी मंडल यह लोकसभा को जबाबदार और उत्तरदायी रहते है। इस में राष्ट्रपति नॉमिनल कार्यकारी प्रमुख रहता है। राष्ट्रपति घटनात्म कार्यकारी प्रमुख है भिरभी उनको कार्यकारी मंडल के परामर्श के नुसार ही निर्णय लेना बंधनकारक है।

h) समाजवादी राज्य :- 

भारत ने लोकशाही समाजवाद का स्वीकार किया है। भारत ने स्वीकार किया गया समाजवाद यह राज्य की मालकी नहीं है यह जनता और समाज की मालकी है।

i) निधर्मी :- 

निधर्मी राष्ट्र का अर्थ है राष्ट्र को धर्म नहीं है लेकिन देश में रहने वाले हर नागरिक को अपना धर्म स्वीकारने का पूरा अधिकार है। राज्य सभी धर्म का आदर करेगा। '' सर्वधर्मसमभाव ''  के नुसार राज्य आचरण करेगा राज्य के निधि में से धर्म के काम-काज पर कोई खर्चा नहीं किया जायेगा सभी नागरिक को अपने धर्म का प्रचार प्रसार करने का पूरा अधिकार है।

j) संघीय राजव्यवस्था :- 

भारतीय राज्य व्यवस्था संघीय है। लेकिन आनिबानी के समय 'एक केंद्रीय' बनती है।

k) एकात्मिक न्यायव्यवस्था :- 

भारतीय राज्य घटना Federal है लेकिन न्यायव्यवस्था एकीकृत है। सर्वोच्च न्यायालय से न्यायदंडाधिकारी वर्ग - 1 तक सभी न्यायालय एकहि कार्यपद्धति के नुसार कार्य करते है। दुय्यम न्ययालय पर उच्च न्यायालय का नियंत्रण रहता है।

l) प्रौढ़ मतदान अधिकार :- 

उम्र के 18 साल पुरे हुए नागरिक को मतदान का अधिकार है।      

m) राजकीय लोकशाही माध्यम/ मार्ग :- 

आर्थिक और सामाजिक लोकशाही स्थापित करने के उद्देश से संविधान का प्रवर्तन करना अपेक्षित है।   

(क) राष्ट्रीय प्रतिक  

राष्ट्रध्वज 


घटना समितिने दि. 24 जुलाई 1947 को राष्ट्रध्वज का स्वीकार किया। राष्ट्रध्वज की डिजाईन श्री पिंगळे वैंकय्या ने तैयार की है।

राष्ट्रध्वज को तीन रंग रहते है

उपर के बाजु में  -  केसरी

 मध्यभाग में  - सफ़ेद

निचे के बाजु में  - हरा

मध्यभाग में सफ़ेद रंग के पट्टी में 24 आर्य का आकाशी निला रंग का चक्र।

राष्ट्रध्वज की लंबाई :- रुंदी प्रमाण  3:2

राष्ट्रीय चिन्ह  

केंद्र शासन ने २६ जनवरी 1950 को राष्ट्रीय चिन्ह को मान्यता दी है। सारनाथ के अशोक स्तंभ से यह चिन्ह लिया गया है। इस चिन्ह के निचे के बाजु में '' सत्य मेव जयते '' देवनागरी लिपि में लिखा है। '' सत्य मेव जयते का अर्थ है, सत्य की हमेशा जित होती है। 

राष्ट्रीय गीत 

घटना समिति ने 24 जनवरी 1950 को जनगणमन यह गीत राष्ट्र गीत के रूप में स्वीकार किया। यह गीत सर्वप्रथम 27 दिसंबर 1911 को कलकत्ता में कांग्रेस अधिवेशन में गाया गया था। श्री रवीन्द्रनाथ टगोर इस गीत की रचना की है। राष्ट्रगीत 52 सेकंद में गाया जाता है। 

राष्ट्रगान 

वंदेमातरम यह गीत अरविंद घोष इनके '' आनंदमठ '' इस कादंबरी से लिया गया है। यह गीत सर्वप्रथम 1886 में कांग्रेस अधिवेशन में गाया गया था।

नॅशनल कैलेंडर 

यह कैलेंडर '' साका एरा '' पर आधारित है और इसकी सुरवात चैत्र महा से हुई है। इसमें 365 दिन है। केंद्र शासन ने  22 मार्च 1957 को कैलेंडर का स्वीकार किया। 

राष्ट्रीय प्राणी  

बाघ का राष्ट्रीय प्राणी है इसका स्वीकार किया गया है।

राष्ट्रीय पक्षी 

मोर इसको राष्ट्रीय पक्षी करने मान्यता दी गई है।

राष्ट्रीय मासा 

डॉल्फिन 

राष्ट्रीय फल 

आम 

राष्ट्रीय पेड़ 

बरगद का पेड़ 

राष्ट्रीय नदी 

गंगा 

राष्ट्रीय खेल 

हॉकी 

देश का नाम 

संविधान में इस देश का नाम '' India that is Bharat '' यह नमूद किया गया है। 


















         

Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.