एनर्जी करें कंट्रोल | Control energy


आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में अगर किसी चीज का सबसे ज्यादा अपव्यय होता है तो वह है ऊर्जा, नतीजा यह होता है व्यक्ति का तनावग्रस्त हो जाना।  तनाव निसंदेह हार्ट प्रॉब्लम, हायपरटेंशन, डिप्रेशन, एन्जायटी का कारण सकता है। मन -मस्तिष्क में भावनाओं का खेल न केवल जागृत अवस्था में बल्कि सोते हुए सपने देखंते  भी चलता रहता है। भावनाएं कई बार थका डालती है, लेकिन ऊर्जावान लोग इस थकावट को अपने पर हावी नहीं होने देते। वे मन को प्रसन्न करने की कला जानते है।

Control energy



एनर्जी क्या है 

अगर हम एनर्जी कंट्रोल करना सिख ले तो हम हमेशा जिवित दिखाई देंगे। जीवित याने की जीवन से भरपूर जिंदगी का आनंद उठाने के लिए केवल ३० % एनर्जी काफी है मगर मानसिक मजबूती के लिए कम से कम ७० % ऊर्जा की जरूरत होती।

जिंदगी में ऊर्जा बचाने के लिए पलायनवादी होने से काम नहीं चलता। जितनी जिम्मेदारी लेते है। उतने ही ऊर्जावान और रचनात्मक तथा डायनॉमिक बनते है। यह बात अच्छी तरह जान ले ऊर्जावान आप तभी बन सकते है, जब जीवन के प्रति आशावादी दृष्टिकोण रखते हुए अपनी सोच हमेशा पॉजिटिव रखे। जो दबाब को विपरीत स्थितियों को अपने पर हावी न होने देकर उन्हें मैनेज करने के गुण जानता हो। विपरीत स्थितियों में भी जो अपने हास्यबोध को जगाए जानता हो, वह हर तरह की स्थिति को बेहतर तरिके से हैंडल कर सकता है।
ऊर्जा संजोने एक आसान तरीका है संवाद कायम करने की काबिलियत। इस से आपको सोचों से बाहर निकलने में मदद मिल सकती है। कई बार दूसरों से इंटरएक्ट करने से आपको अपनी समस्या के लिए बढ़िया कारगर सुझाव मिल जाते है। सोचों के भंडार व्यर्थ करने से आप बच जाते  है। ऊर्जा का आपकी सोच से सीधा संबंध है।अगर आप अपनी सोच कठोर न रखकर लचीली और आरामदायक बना ले तो आप काफी हद तक तनाव की स्थिति से बचे रह सकते है। इस तरह अपनी ऊर्जा बचा सकते है।




सोच रखें सकारात्मक


सकारात्मक सोच आर्ट ऑफ़ लिविंग  आधारभूत तत्व है। कई बार जीवन में सब कुछ उल्टा -पुल्टा होकर बिखर जाता है। बनते काम बिगड़ने लगते है, प्रयास विफल हो जाते है।  ऐसे में सोच को सकारात्मक दिशा  लाया जाए तो बिखराव  स्थिति से निपटा जा सकता है। अपनी कमजोर पड़ती एनर्जी को फिर मजबूती प्रदान की  है। नफरत को प्यार में बदला जा सकता है।



खुश रहना सीखें


खोज से भी यह सिद्ध हो चूका है की जो व्यक्ति खुश रहता है, वह व्यक्ति ज्यादा जीता है व स्वस्थ रहता है।  इस तरह वह जीवन  अंत तक ऊर्जावान बना रहता है।

अपने को व्यस्त रखें अच्छा सोचें, अच्छा बोले, व्यायाम जरूर करे, ज्यादा पानी पिए,जनक फ़ूड से बचे,घूमने जाए, मनपसंद किताबें पढ़े,अपने पसंदीदा सीरियल देखे जोक्स सुने और सुनवाए,कुछ देर संगीत का आनंद ले और दो-चार गाने जरूर गाए। कुछ नया सीखे जैसे नए शब्द,नई भाषा,घर के छोटे मोटे काम करने का भी अपना मजा है।  ये रिलैक्स करते है।  काम को बोझ मानकर न करे, बल्कि उसे एंजॉय करें। आप ईश्वर का बनाया करिश्मा हो। आप में ऊर्जा का अक्षय भंडार है। उसे महसूस करें कुछ सुन्दर यादों को रिवाइंड करके जिए। कोई खूबसूरत नजारा मानस पटल  जीवित करे।  मन काफी हद तक शरीर को कंट्रोल करता है। यह आपका पॉवर एंजिन है। इसे बंद  पड़ने दे।  ऊर्जा जीवनसूचक है। यह आपके जिंदा रहने का प्रमाण है इस पर अपना कंट्रोल रखे। इसे संजोकर रखें। जीने का मजा इसी मे है।     
                                                                                              
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.