आर्थिक आझादी का अभियान / Right Concept Marketing

आज हमारे देश में अनेक प्रतिभाओं का उपयोग नहीं हो पा रहा है। खूब मेहनत करने का इरादा रखते हुए भी जीवन में कुछ विशेष काम करने का अवसर नहीं है। चरों तरफ घोर सिराशा और अशान्ति छाई हुई है।चरों तरफ घोर निराशा और अशांति छाई हुई है। युवा शक्ति गलत दिशा की और प्रेरित हो रही है। ऐसी परिस्थितियों से निजात पाने की दिशा में एक सार्थक कदम RCM Business ने रखा है।

T.C ji


 RCM Business का क्या स्वरूप है, किस प्रकार यह फलीभूत होता है और इसमें सफलता पाने का सही मार्ग क्या है ? इस Business में उन सफलतम डिस्ट्रीब्यूटर्स के अनुभव का निचोड़ है जिन्होंने अपने सार्थक प्रयासों के द्वारा न केवल अपने परिवारों को सुरक्षित और उज्वल भविष्य प्रदान किया है, बल्कि देश के समस्त नागरिकों के समक्ष चहुँमुखी उन्नति का मार्ग प्रशस्त किया है।


RCM Business की सुरवात करने से पहले बिच के बिचौली (विज्ञापन कर्ता ) की जानकारी 


दुनिया में बहुत तेजी से बदलाव आ रहा है। संचार क्रांति ने पूरी दुनिया की दुरिया ख़त्म कर दी है। पुरे विश्व को एक बाजार बना दिया है। जरा हम एक नजर डाले की उसका परिणाम हमरे देश पर क्या हुआ है ? इससे बाजार में तरह -तरह की मन ललचाने वाली वस्तुए तो आ गई है, की समस्या की और देखने वाला कोई नहीं है। उसे अपनी दीनता के दर्शन भलीभांति होने लगे है। वह अपना पेट भरने व तन ढकने का बंदोबस्त ही जब ठीक से नहीं कर पाता तो उसके पास भौतिक संसार में मन मसोसने के आलावा कुछ नही रह जाता है।

तथाकथित उदारीकरण व विज्ञापन के जरिये तरह-तरह के उत्पाद तो पैदा कर दिए गये है, लेकिन उनको खरीदने की शक्ति किस प्रकार बढ़ाई जाये इस तरफ किसी का ध्यान नहीं है। एक तरफ तरह-तरह के विज्ञापन और ऋण सुविधाओं के जरिये लोगों को बड़े-बड़े सपने दिखाए जा रहे है तो दूसरी तरह सामान्य आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए वांछित धनोपार्जन के साधन भी छीनते जा रहे है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों का एकमात्र उद्देश्य बाजार पर एकाधिकार स्थापित करना और अपनी वस्तु को मनमर्जी के दामों पर बेचना होता है। भारी भरकम विज्ञापनों के जरिए किसी भी वस्तु को लोगों के दिमाग में इस तरह बिठाया जाता है की ये लुभावने विज्ञापन इतने प्रभावशाली होते है की लोग अपने स्वास्थ की भी बलि चढ़ा देते है। इन विज्ञापनों ने न जाने कितने, स्वास्थ के लिए हानिकारक उत्पादों की भरमार कर दी है और हमारी संस्कृति को पतन का मार्ग दिखा दिया है।

जो कम्पनिया विज्ञापन में बहुत बड़ी राशि खर्च कर सकती है वे  तो अपना मार्केट बना लेते है,लेकिन जो कम्पनिया इतना विज्ञापन नहीं कर पाती उनके पास तीन ही रास्ते बच जाते है

  • कम्पनी में उत्पादन बंद अथवा कम कर देना 
  • अपने उत्पाद की गुणवत्ता कम कर देना या नकली माल बनाना 
  • अपने उत्पाद को कम रेट में बेचना      

इसका परिणाम आज स्पष्ट दिखाई दे रहा है। गला काट प्रतिस्पर्धा का बोलबाला है नकली व कम गुणवत्ता वाले उत्पाद असली गुणवत्ता वाले उत्पादों से ज्यादा बनाये व बेचे जा रहे है। सारी चीजों का संतुलन बिघडा हुआ है। देश का ८० प्रतिशत पैसा २० प्रतिशत लोगों के पास है। जहां कुछ लोगों को पैसा रखने की इतनी समस्या है की पैसा विदेशी बैंकों में रखना पड़ता है वहा दूसरी और देखा जाए तो लोगों के पास रहने के लिए अच्छा माकन नहीं है, न पहनने को कपड़ा और न खाने को अच्छा भोजन, न वे अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देने की सोच सकते है और न ही वे अपनी छोटी-मोटी किसी भी इच्छा को पूरी करने की सोच सकते है। समस्या दिनों दिन विकराल रूप लेते जा रही है। सोने की चिड़िया कहलाने वाला देश दिन-हीन होता जा रहा है। ध्यान देने योग्य बात यह है की पूंजीपतियों के पास ये पैसा कहा से आ रहा है ? देश की इसी जनता से किसी न किसी रूप में। क्योकि उपभोक्ता तो यही है, बाजार तो इन्ही से बनता है। थोड़ा थोड़ा पैसा चाहे,वह विज्ञापन के रूप में हो, चाहे वितरण लागत के रूप में या उत्पादन लागत के रूप में ,आम जनता से कुछ चन्द लोगों के हाथों में जाता रहता है। हमारे देश के इतने सारे उपभोक्ता जिन्होंने इतना बड़ा बाजार तैयार कर रखा है, क्या इनका कोई हक़ नहीं है इस बाजार से पैसा कमाने का ?



एक बहुत बड़ी चुनौती देश के सामने आ खड़ी हुई है की तुरंत सिस्टम को बदला जाय कोई ऐसा सिस्टम चाहिए जो सम्पूर्ण समाज का विकास कर सके, न की चन्द लोगों का जिसमें सभी लोगों को काम का अवसर मिल सके। जिसमे देश के इतने बड़े बाजार में मार्केटिंग करने का फायदा सभी नागरिकों को मिल सके। जो झूठे विज्ञापन के मायाजाल से जनता को मुक्ति दिला सके। जो हमरे देश में निर्मित वस्तुओं को बाजार में उचित स्थान दिलवा सके।

इसी चिंतन के साथ '' आर्थिक आजादी '' के मिशन के रूप में RCM Business की शुरुआत की गई और आज सफलता की इस यात्रा में आपको आमंत्रित करते हुए अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है।

RCM Business स्थापना :

आरसीएम Business सुनने में सपना लगता है, लेकिन इस सपने को साकार करने का कदम उठाया राजस्थान प्रदेश के भीलवाड़ा शहर में स्थापित छाबड़ा ग्रुप की कम्पनी मैं.फैशन सूटिंग्स प्रा.ली.ने। RCM Business के नाम से एक नई व्यावसायिक योजना सुरु की जिसमे पूर्व वर्णित सभी समस्याओं का निराकरण करने का प्रयत्न किया गया है व हर उपभोक्ता के जीवन स्तर को ऊपर उठाने पर विचार किया गया है। उपभोक्ताओं को वस्तुओं के उपभोग के साथ ही आय के अवसर प्रदान किए गए है। इस योनजा में उत्पादन का जिम्मा कम्पनी ने लिया और मार्केटिन व विज्ञापन की जिम्मेदारी उपभोक्ता को दे दी। उससे होने वाली आय के हक़दार भी कोई एक दो चार नहीं, बल्कि हर उपभोक्ता है। अब उभोक्ता केवल उभोक्ता नहीं रहा,उसी के साथ में सारी बागडोर भी है।

टेक्सटाइल्स  की अनुभवी कम्पनी ने उपभोक्ताओं के हितों को ध्यान में रखते हुए उनकी आय के अवसर को विस्तृत करने के लिए टेक्सटाइल्स की विस्तृत श्रृंखला के साथ-साथ वर्ष 2002 में FMCG में प्रवेश किया और प्रतिदिन काम आने वाले उत्पादों को लगातार इस अभियान में शामिल किया जा रहा है। कम्पनी की उच्च प्रबंधन क्षमता, हिंदुस्तान के कोने-कोने में फैली विस्तृत वितरण व्यवस्था, विशाल कम्प्यूटर कृत तंत्र, इस अभियान को फलीभूत करने के लिए प्रतिबद्ध है।

सभी उत्पादों को अपने ब्रांड और अपनी गुणवत्ता निति से तैयार करवाना, समय के साथ और बढ़ते हुए नेटवर्क के अनुसार संचालकता को व्यावहारिक और अधितम फलदायक बनाना, उपभोक्ताओं को सही मार्गदर्शन देना व उनको जीवन की अनेक विसंगतियों से बचाना जैसी प्रमुख नीतियों के फलस्वरूप यह अभियान देश का सर्वाधिक फलदायक डारेक्ट सेलिंग अभियान बन चूका है।

Rcm Business की मुख्य विशेषताएं :

◼️ निर्माता का उपभोगता से सीधा सम्पर्क होता है, बिच में कोई कड़ी नहीं होती। अतः नकली माल बनने को कोई अवसर नहीं रहता।
◼️इसमें कोई बाहरी विज्ञापन की आवश्यकता नहीं होती,जबकि परम्परागत तरिके में आमतौर पर एक मोटी रकम देकर झूठे विज्ञापन करवाए जाते है
◼️ऐसे लोग विज्ञापन करते है जो उस वस्तु का कभी उपभोग नहीं करते जबकि RCM Business में उपभोक्ता उत्पाद का उपयोग कर स्वयं संतुष्ट होने के बाद ही अन्य उपभोक्ताओं को बताते है। इसलिय इस सिस्टम में क्वालिटी चलती है,विज्ञापन नहीं।
◼️इस सिस्टम में मार्केटिंग करने का किसी को किसी प्रकार का एकाधिकार नहीं दिया जाता है। हर उपभोक्ता मार्केटिन करके आय प्राप्त करने के लिए स्वतंत है। न ही इसमें किसी प्रकार का छोटे बड़े का भेद होता है। हर एक के लिए समान अवसर है।
◼️इस सिस्टम में काम करने के लिए समय का कोई बंधन नहीं है। काम केवल नए लोगों को यह कांसेप्ट बताने का होता है। जो कोई भी अपने खाली समय में कर सकता है या उस समय का सदुपयोग कर सकता है। जो कोई  भी अपने खली समय में कर सकता है या उस समय का सदुपयोग कर सकता है जो व्यर्थ चला जाता है।
◼️उपभोक्ता को किसी प्रकार के संसाधनों की जरूरत नहीं होती है और न ही कोई स्टॉफ की आवश्यकता होती है। वह जहा है, वही से अपना कार्य कर सकता है, न ही उपभोक्ता को इसमें कोई जोखिम लेनी होती है।
◼️इस सिस्टम में काम करने के लिए किसी प्रकार की विशेष डिग्री की आवश्यकता नहीं होती है एक ही डिग्री की आवश्यकता होती हैजो सबके पास है, वह है न्यायोचित तरिके से पैसे कमाने की इच्छा। इसमें काम करने से बहुत कुछ सिखने को मिलता है।
◼️इस सिस्टम में किसी से कोई प्रतिस्पर्धा नहीं करनी है सबको सहयोग देना होता है।  यह सिस्टम ही ऐसा है की दूसरे जितनी ज्यादा उन्नति करंगे उतनी ही आपकी उन्नति ज्यादा होती।
◼️इस सिस्टम में आपको बिजनस का कोई लेखा-जोखा रखने की आवश्यकता नहीं होती है. कम्पनी सभी का लेखा-जोखा पूर्णतः ऑनलाइन रखती है।

RCM Business : 

◼️कंपनी ने बिजनस को दीर्घकालीन बनाने और भारतीय परिस्थितियों के अनुकूल बनाने के लिए कुच  वविशेष  बातों का ध्यान रखना है। 
◼️आम उपयोग के उत्पाद 
◼️श्रेष्ठ गुणवत्ता व तकनीक का चयन
◼️गुणवत्ता उत्पादों की उचित कीमत
◼️उपभोक्ता को किसी भी स्तर पर कोई नुकसान का अवसर नहीं 

इन्ही विशेषताओं के कारण RCM Business ने लाखों उपभोक्ताओं के दिलों में एक अटूट विश्वास पैदा किया है।

RCM Business से अपना व अपने परिवार का भविष्य उज्वल बनाइए :

इस बिजनस में अलग से किसी को कुछ नहीं करना है। मात्र उपभोक्ताओं को उत्पाद बदलना है। अब सिर्फ इन RCM उप्तादो का प्रयोग करना है जिसमें उनका बहुत बड़ा लाभांश है, जिसमें उनको श्रेष्ठ गुणवत्ता बहुत ही उचित दर पर मिल रही है। यह बात बिना किसी बाहरी विज्ञापन के सभी उपभोक्ताओं तक पहुचानी है। सभी उपभोक्ताओं के नजरिए को बदलना है। उनके हित की बात उन्हीं को बतानी है। किसी भी विषय पर बातचीत करना हमारी आदत में शामिल है। फर्क सिर्फ इतना है की ज्यादातर बातें हम बिना किसी उदेश्य के करते है और इसमें एक विशेष उदेश्य के लिए बात करनी है।  उसको एक अंजाम देना है। 

एक बात जो महत्व रखती है, वह यह की यह तरीका बिल्कुल नया है। जिसकी लोगों को आदत नहीं है लोग सदियों से परम्परावादी तरिके पर चलते आ रहे है। जब कुछ बदलता है तो हम नए को एकदम स्वीकार नहीं करते है।  जब कम्प्यूटर आया तो शुरुआत में लोग सोचते थे हमें इसकी क्या जरूरत है जबकि आज घर-घर में कम्प्यूटर का उपयोग बढ़ाता जा रहा है सारि नई चीजे इसी प्रकार धीरे-धीरे प्रचलन में आते है। चाहे वह गैस हो,टेलीफोन हो,बिजली हो,मोबाईल हो या इंटरनेट। जबकि यह सब की सब चीजें बहुत ही उपयोगी और सुविधाजनक है। इसी प्रकार RCM Business का कॉन्सेप्ट है। यह समूचे समाज के उत्थान की ताकत रखता है ,लेकिन नया कांसेप्ट है, इसलिय प्रारम्भिक विरोक आना सभावित है,इसका अर्थ यह नहीं है की आप प्रयास छोड़ देना। आपका दायित्व उन्हें समझाना व मार्गदर्शन देना है। यही इस बिजनस की सफलता का मूल मंत्र है।

*तरोताजा व सकारात्मक सोच के साथ RCM business से अपना व अपने परिवार का भविष्य उज्ज्वल बनाए*

यह भी जरूर पढ़े 
 RCM Business की जानकारी अपने टीम में शेअर 
 करे और आर्थिक आझादी का अभियान सफल करे  

Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.