परिवर्तन का सपना ( मार्टिन ल्युथर किंग ) / Dreaming of change (Martin Luther King)


Mortin lyuthar king

विश्व के सभी महापुरुषों ने अपने खुली आँखों से सपना देखा है। किसीका सपना पूरा होता है तो किसीका नहीं होता है। यह सपना एक '' क्रांति '' है, क्रांति आदमी के मेहनत की एक बहुत ही बलशाली ताकत है।अमेरिका के मार्टिन ल्युथर किंग ने 45 साल के पहले एक सपना देखाता वो सपना उन्होंने अमेरिका के लोगों के आगे रखा।


I Have a Dream , एक दिन यह देश जागरूक होगा और सभी इंसान समान है यह एक परम सत्य है। मेरे चार लड़के एक दिन ऐसे राष्ट्र में रहेंगे की उनके रंगों के कारन उनकी पहचान बनेगी नहीं तो उनके अंदर के व्यक्तिमहत्व के गुणों के कारन पुरे विश्व में उनका गुणगान होगा।

मार्टिन ल्युथर किंग ने यह सपना जस्बा लेकर के जहाँ-जहॉ जुलुम, अन्याय, दोहन, अत्याचार होता था वहा पर वे चले जाते थे। इस अन्याय को दूर करने के लिए,लोगों को जगाने के लिए उन्होंने 5 पुस्तके लिखी और लेख भी बहुत लिखे। उन्हें बिस बार जेल जाना पढ़ा । चार बार उनके ऊपर प्राणघात वार किए गए।निग्रो लोगों को मतदान का अधिकार नहीं था इसलिए 2 लाख 50 हजार लोगों के साथ में शांति मोर्चा निकला। Diversidad    Apartheid, नीति के खिलाप नीग्रो के साथ में अपने अंतिम सास तक नीग्रो के अधिकार के लिए प्रयत्न किए। वे मानवता के कैवारी थे। उम्र के 35 वे साल में अर्थात 1964 में मार्टिन ल्युथर किंग को विश्वविख्यात शांति, सौहार्द, सामजस्य इसका प्रतिक नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस पुरस्कार की रक्कम उन्होंने
Liberation movement को दान दे दिई ।



4 अप्रैल 1964 में रेम्स अलेर इस स्वेतवर्णीय की हत्या की गई। उनका बलिदा आनेवाले Generation के लिए एक दीपक की तरह प्रकाश देता रहेगा।

मार्टिन ल्युथर किंग शरीर रूप से हमारे साथ नहीं है लेकिन उनका सपना जिन्दा था। यह सपना पूरा करने के लिए नीग्रो समुदाय में ऐसा व्यक्ति जन्म लेगा ऐसा कहकर उन्होंने अपने प्राण छोड़े।

नोहंबर 2008 में अश्वेतवर्णीय बराक ओबमा अमेरका के राष्ट्राध्यक्ष बने यह घटना याने की मार्टिन ल्युथर किंग का देखा हुवा सपना पूरा हुवा। अश्वेतवर्णीय बहुत खुश हुए। बराक ओबामा ने अश्वेत के साथ-साथ श्वेत के भी मन पर विजय प्राप्त किया।

अमेरिका में रंगभेद की परम्परा अब्राहम लिंकन के कालखंड से ही चालू है। गोरे और काले लोगों में समता प्रस्थापित होना चाहिए इसके लिए बहुत संघर्ष हुए। नत टर्नर ने अमेरीका में नीग्रों के प्रश्न पर Invoke rebellion किए। अब्राहम लिंकन ने अमेरिका को गोरे और काले लोगों के संघर्ष से बचाए। बुकर टी वॉशिंग्टन यह आफ्रिकन-अमेरिकन पोस्टेज स्टैम्प पर स्थान प्राप्त हुवा। रोझा पार्कस ने अश्वेत के हक्क के लिए बहुत बड़ा संघर्ष किए उसने श्वेत ड्रायव्हर का आदेश का पालन नहीं किया और श्वेत यात्रियों के लिए जो जगह आरक्षित रहती है वहा जाकर के बैठ गई। उसके उस साहस से आगे चल के Modern Civil Rights Movement का जन्म हुवा। इस Movement का शिल्पकार मार्टिन ल्युथर किंग है। माल्कम एक्स यह अश्वेत का वकील था। कार्ल स्टोक्स 1967 में प्रथम अश्वेत मेयर बने।

रंगभेद की समस्या अमेरिका में चालू थी और उसे नष्ट, विद्रोह करनेवाले मार्टिन ल्युथर किंग थे और इस आंदोलन को आगे लेके जानेवाले राष्ट्राध्यक्ष जॉन केनेडी उनका बंधू  रॉबर्ट केनेडी इन तीनो की 1963 से 68 इस पांच सालों में उनकी हत्या हुई।

इस घटना का कथन करते हुए भारत के माजी पंतप्रधान इंद्रकुमारजी गुजराल कहते है,'' यह बहुत बड़ी क्रांति है। अमेरका के इतिहास में तीन क्रांति हुई है , प्रथम क्रांति 1860 को राष्ट्राध्यक्ष अब्राहम लींकन ने गुलामगिरी के खिलाप और अश्वेतवर्णियों को सामान दर्जा दिलाने के लिए किया हुवा संघर्ष। दूसरी क्रांति वसाहतवाद और बराक ओबामा राष्ट्राध्यक्ष बने यह तीसरी क्रांति है। Voting के माध्यम से अमेरिका का जन्म हुवा। भारत का स्वतंत्र देखा और अहिंसक सत्याग्र के माध्यम से मिला हुवा स्वतंत्र देखा लेकिन अमेरिका जैसी गुलामगिरी मैंने कभी नहीं देखि और अभी गुलाम प्रजा का ही एक वारस अमेरिका का राष्ट्राध्यक्ष बना वो भी शांतिपूर्वक मार्ग से। यह घटना मुझे भारत के स्वतंत्रा के बराबर है, ऐसा लगता है।

बराक ओबामा का जीवनचरित एक सपना है, यह सपना मार्टिन ल्युथर किंग ने देखा था उसके साथ-साथ अमेरका के लोगों ने ही परिवर्तन का सपना देखा था और यह सपना बराक ओबमाने राष्ट्राध्यक्ष बन के पूरा किया।

बराक ओबामा ने 1995 में अपने पिताजी पर एक पुस्तक लिखा उसका नाम है, '' Dreams from my Father''  में ओबामा लिखते है ,'' Communities had to be created, fought for, tended like gardens.They expanded or contracted with the dreams of men and in the civil rights movement those dreams had been large.''

बराक ओबामा ने अपने पिताजी का सपना साकार करने के लिए शिकागो से राष्ट्रध्यक्ष तक का सफर , उसके इस जित में उसके घर के साथ-साथ अमेरिका के जनता का भी साथ है। बराक ओबामा कहते है ,'' जिस देश में सभी बातें संभव है वो देश याने अमेरिका। '' मै किसी भी प्रकार से इस पद का उमेदवार नहीं था। मेरी सुरवात पैसा या समर्थन इसके आधार पर नहीं हुई। वॉशिंग्टन के सभागृह ने मुझे विचार नहीं दिया मुझे विचार दिया तो कामगार के बस्ती ने इस कामगारोंने पांच -दस डॉलर्स ,बिस डॉलर्स जमा किये और मदद किए।



ओबामा कहते है , '' चलो अभी परिवर्तन लायेंगे,अमेरिका में परिवर्तन लायेंगे ..... पुरे विश्व में परिवर्तन लायेंगे '' Let  us change.Let us change America. Let us change the World.Let us make world better place to Live.

अमेरिकन संपादन ने कहा है की ,'' Obama will have to prove now that he is an agent of change he dreams of.''

दक्षिण आफ्रिका के पहिले अश्वेतवर्णीय अध्यक्ष नेल्सन मंडेला कहते है ,'' विश्व में परिवर्तन का सपना सभी देख सकते है और सपना देखने से कोई रोख नहीं सकता। यह बराक ओबामा ने राष्ट्राध्यक्ष बनके साबित करके दिखाया।



मार्टिन ल्युथर किंग की कन्या कहती है ,'' आज मेरे पिताजी रहते तो आज के अमेरिका पर उन्हें अभिमान रहता।अमेरिका में समता का सूरज प्रकाशित हुवा है।समानता के लिए जीनों ने अपनी क़ुरबानी दी और शहीद हुए उनका सपना आज साकार हुवा है ''।

अमेरिका यह विश्व का बलशाली देश है, लेकिन इस देश में अश्वेत और श्वेत का संघर्ष चालू था। सभी देशों को घटना का सन्देश देनेवाला लोकशाही का सन्देश देनेवाला देश विषमता में था। 1964 तक नीग्रों को मतदान का अधिकार प्राप्त हुवा और अश्वेतवर्णीय अमेरिका का राष्ट्राध्यक्ष बनेगा ऐसा किसीको नहीं लगता था क्योंकि '' व्हाईट हॉउस '' में मात्र श्वेतवर्णीयों का राज चलता था। और ऐसे देश में अश्वेतवर्णीय बराक ओबामा राष्ट्राध्यक्ष बनेगा ऐसा किसी को भी नहीं लगता था। लेकिन असंभव को संभव करने के लिए, हर इंसान एक हिरा है , उसने अपने आप को तराशना चाहिए बराक ओबामा ने अपने आप को तराशा और हिरे की तरह अमेरिका का राष्ट्राध्यक्ष के रूप में पुरे विश्व में चमका।

'' बराक '' इस शब्द का अरबी भाषा में अर्थ है ,'' ब्लेस्ड या आशीर्वाद 

अधिक जानकारी के लिए इस लेख को अवश्य पढ़े        


1 बराक ओबामा का जीवनचरित्र

2 बराक ओबामा राष्ट्राध्यक्ष पद तक कैसे पहुंचे ?

3 बराक ओबामा की कॉलेज लाईफ

4 बराक ओबामा का मंगल परिणय

यह भी जरूर पढ़े
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.