बिल्ली रानी की नटखट कहानी / Cat queen's naughty story


Billi rani


कहानी / story

एक समय था। जब बिल्ली का आना जाना बुरा समझते थे परन्तु आज कल की परिस्थि के कारन पुराणी विचार धरा और परम्परा में आदमी फसा हुवा है, पिछले दिनों हमारे घर में बहुत चूहे हो गए थे उन्हें घर से निकलने के लिए बहुत तरिके आजमाए लेकिन हमारी एक न चली। आटे और अनाज के लिए लोहे के ढोल बनवाए गए। यह उपाय कुछ दिनों तक कारगर रहा। परंतु आँख बचाकर चूहें उन डोलों में घुसने लगे इस समस्या पर कई मित्रों से परामर्श लीया गया। आखिर निष्कर्ष निकला की घर में एक बिल्ली पाली जाए।


बम्बई से एक बिल्ली लाई गई। उसकी खूब खातिरदारी होने लगी। कभी बच्चे दूध पिलाते, कभी रोटी देते, उसने विधि पूर्वक चूहों का सफाया करना शुरू कर दिया। देखते-देखते चूहें घर से गायब हो गए। सभी लोग बहुत खुश हुए। दो महीने बाद वह समय आ गया की हम बिल्ली से परेशान हो गए। हमने सोचा चूहें तो अनाज ही खाते थे। कम-से-कम परेशन तो नहीं करते थे। यह बिल्ली खाने में भी कम नहीं और हमें तंग भी करती रहती है। उसके प्रति हमारा व्यवहार बदल गया।

बिल्ली भी कम समझदार जानवर नहीं। जो जो शेर के पंजे में नहीं आई वह हमसे कैसे मात खा जाती। उसने ही अपना रवैया बदल दिया। हमारे आगे-पीछे फिरने की बजाय वह रसोई के आसपास कोने में दुबक कर बैठ जाती।मौका देख के मजे से जो जी में आता खाती थी। इस तरह चोरी करते बिल्ली पकड़ी गई। एक दिन सुबह उठते ही मै रसोई में कुछ लेने गया। देखता हु की कधे हुए दूध का दही जो रात को बड़े चाव से जमाया गया था, बिल्ली खूब मजे से खा रही थी।



अब चिंता हुई की बिल्ली से कैसे पीछा छुड़ाया जाए। मेरा नौकर बहुत होशियार है। रात को काम ख़त्म करके जाने से पहले उसने एक खाली बोरी के अंदर दो रोटियाँ डाल दी और चुपके से एक तरफ खड़ा होकर बिल्ली का इंतजार करने लगा। बिल्ली आई वह एकसाथ रोटियों पर झपटी नौकर ने बोरी का एक सिरा पकड़ कर उसे ऊपर से बोरी में बंद कर दिया। रस्सी के साथ बोरी का मुँह बांध दिया गया। क्योंकि रात के 10 बजे थे। मैंने अपने नौकर से कहा की सवेरे बिल्ली को कहि दूर छोड़ आना है क्योकि दोबारा इस घर में वापस नहीं आना चाहिए।


दूसरे दिन सब लोगों को चाय पिलाते-पिलाते नौकर को सुबह के आठ बज गए थे। मैंने याद दिलाया की उस बिल्ली को भूली भटियारिन की तरह छोड़ कर आना है। बोरी कंधे पर लटका कर नौकर जाने लगा। मैं अपने काम में व्यस्त हो गया कुछ देर बाद मुझे शोर सुनाई दिया एक आदमी आवाज लगा रहा था की आप का नौकर पकड़ा गया।



मै हैरान हुवा की क्या बात है, समझा शायद नौकर सायकिल से टकरा गया होगा। शायद सायकिल वाले का कुछ नुकशान हुवा होगाऔर नौकर को पकड़े होंगे। मुझे नौकर खाली बोरी लटका कर आते हुए दिखा। वह बहुत खिल-खिलाकर हास् रहा था। उसे डाटते हुए मैंने पूछा-अरे क्या बात हुई है? नौकर कहने लगा की, कुछ लोगों को सक हुवा की बोरी में बच्चा है और यह चोर बच्चा चुराकर बोरी में डाल कर लेके जा रहा है। इस बदमाश ने किसी बच्चे को पकड़ा है यह बदमाश उसी गिरोह में से है जिनका काम बच्चे पकड़ना है।

एक आदमी पोलिश ठाणे में गया और बताया की एक आदमी बोरी में बच्चा लेकर जा रहा है उसे गांव के लोगों ने पकड़ा है आप जल्द से जल्द चलिए और उस बच्चे पकड़ने वाले आदमी को हवालत में बंद करवा दो थानेदार आया '' सरकार आप जितना चाहें मुझे पिट लो, पहले यह तो देख ले की इस बोरी में है क्या ? लोग चिल्ला रहे थे की इसे मत छोड़ो हम सभी लोग गवा है की इसके बोरी में बच्चा है , यह चोर है। ठाणेदार ने नौकर से कहा बोरी का मुँह खोलो नौकर शांतिपूर्वक निचे बैठ गया और धीरे से उसने बोरी का मुँह खोल दिया। जैसे ही बोरी का मुँह खोला छलांगे मारती हुई बिल्ली भागी और लोग देखते ही रह गए। और नौकर हसते हुए घर लौटा।

सिख / Sikh

 किसी आदमी पर शक करने से पहले उसकी गलती क्या है,  यह जानना जरुरी है।  

यह भी जरुर पढ़े  



Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.