डॉ.कल्पना चावला अंतरिक्ष यात्री / Dr.Kalpana Chawla Astronaut

Dr. Kalpana Chawala Asronaut
इस धरती पर जन्म लेनेवाले इंसान को एक ना एक दिन जाना ही है। लेकिन कुछ लोग अपना नाम इतिहास में दर्ज करके जाते है। हम छोटे रहते है तभी हमें हमारे मातापिता स्कुल में पढ़ने के लिए हमारा नाम दाखिल करते है और हम पढ़ाई करने जाते है। जब हम बढ़े होते है तभी एक दिन ऐसा आता है की हम अपना नाम इतिहास में दर्ज करवाते है और लोग हमारी जीवनी पढ़ते है। दोस्तों ऐसे ही महान अंतरिक्ष यात्री भारत की बेटी डॉ.कल्पना चावला की बात कर रहा हु जो आज हमारे बिच में नहीं रही अगर 16 मिनट पहले धरती पर यान उतर जाता तो भारत की बेटी कल्पना चावला आज हमारे बिच में रहती लेकिन ऐसा नहीं हुआ और अपना नाम इतिहास में दाखल करके चली गई।


कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च 1962 को हरियाणा राज्य के कर्नाल में हुआ है। कल्पना चावला अंतरिक्ष में जानेवाली प्रथम भारतीय महिला है। 03 अप्रैल 1984 को राकेश शर्मा अतंतरिक्ष में पहुँचा। राकेश शर्मा अंतरिक्ष में पहुँचने वाला पहिला भारतीय पुरष है।

कल्पना चावला का परिचय / Introduction of Kalpana Chawla 


नाम :- डॉ. कल्पना चावला 

जन्म तारीख :- 17 मार्च 1962 

जन्म स्थल :- कर्नाल , हरियाणा 

पिताजी का नाम :- बनवारीलाल चावला 

माताजी का नाम :- संज्योथी चावला 

कल्पना चावला का पारिवारिक जीवन / Kalpana Chawla's Family Life


कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च 1962 को हरियाणा राज्य के कर्नाल में हुआ है। कल्पना चावला अंतरिक्ष में जानेवाली प्रथम भारतीय महिला है। हरियाणा के कर्नाल गांव में नायलॉन का व्यापार उनके पिताजी करते थे। कल्पना चावला में आत्मविश्वास और शिस्त यह दो गुण थे। 



कल्पना चावला की पढ़ाई / Kalpana Chawla's studies

कल्पना चावला ने कर्नाल के बालनिकेतन प्राथमिक स्कूल में अपनी प्राथमिक पढ़ाई पूरी की। चंडीगढ़ के पंजाब विद्यापीठ से सन 1982 में एरोनॉटिकल अभियांत्रिक Aeronautical Engineering की पदवी प्राप्त की। सन 1984 में टेक्सास विद्यापीठ से एरोनॉटिकल उच्च अभियांत्रिकी Aeronautical High Engineering की पढ़ाई पूरी की। उसके बाद अपने सपनों को उड़ान भरने के लिए अमेरिका चली गई और वहा पर सन 1988 में University of Colorado Boulder से PHD की उपधि हासिल की। 


अमेरिका के NASA अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र में चयन / Selection in America's NASA Space Research Center 

डॉ.कल्पना चावला का सन 1988 में अमेरिका के NASA(National Aeronautics and SpaceAdministration) अनुसंधान केंद्र में चयन हुआ। सन 1994 में NASA की अंतरिक्ष वीर के रूप में कल्पना का चयन हुआ। डॉ.कल्पना चावला ने अंतरिक्ष में 16 दिन की यात्रा कोलंबिया एसटीएस -87 यान से पूरी की। इसके पहले इस मोहिम का नेतृत्व केविन क्रेगल के तरफ था। इस मोहिम में 06 सदस्य का पथक था। डॉ.कल्पना चावला प्रथम आशियाई महिला अंतरिक्ष वीर थी। एरोनॉटिक्स के डिग्री के कारण कल्पना चावला को तांत्रिक अधिकारी  के रूप में चयन किया गया।

अंतरिक्ष यात्रा के लिए 2,962 अर्ज आए थे। इस अर्ज से 19 अर्ज का सिलेक्शन किया गया था। 19 अर्ज में कल्पना चावला का नाम था। 19 लोगों में 10 पायलट और 06 मिशन स्पेशालिस्ट थे। इस में 16 अमेरिकन जवान थे। कल्पना चावला ने प्रथम मोहिम में 10.67 दशलक्ष किलोमीटर का प्रवास की थी। पुर्थ्वी को कल्पना ने 252 फेरे लगाए। अंतरिक्ष में कल्पना चावला 360 घंटे रही और अपनी मोहिम को सफल बनाई।


अमेरिका के NASA अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र में दूसरी बार चयन / Second time selection in the US NASA Space Research Center

कल्पना चावला की प्रथम मोहिम सफल रही इसी कारन सन 2000 में NASA ने एसटीएस-107 इस Second मोहिम के लिए कल्पना चावला का चयन किए। इस मोहिम में 07 लोगों का पथक था। यह मोहिम सुरु होने के लिए बहुत समय लगा। 16 जनवरी 2003 को इस मोहिम को सुरुवात हुई। इस मोहिम में '' कम गुरुत्वाकर्षण, मानवी स्वास्थ और उसके परिणाम '' इसका अभ्यास करना था।

01 फरवरी 2003 को अपनी अंतरिक्ष यात्रा पूरी करके कोलंबिया यान से पृथ्वी के क्षेत्र में आने के बाद यान का बहार का छत निकल गया। और पृथ्वी के क्षेत्र के घर्षण से कोलंबिया यान को आग लगी और उसमे बैठे 07 लोगो का जल कर मृत्यु हुआ।




डॉ. कल्पना चावला की खास बातें /  Special features of Dr. Kalpana Chawla

कांग्रेस अंतरिक्ष पदक 

 NASA अंतरिक्ष उड़ान पदक 

NASA विशिष्ट सेवा पदक 

➤ ( UTEP ) में भारतीय छात्र संघ के तरफ से 2005 में बुद्धिमान भातीय विधार्थियों को '' कल्पना चावला स्मृति स्नातक शिष्यवृती '' चालू की है। 

05 फरवरी 2003 को भारत के पंतप्रधान मा डॉ. मनमोहनसिंग ने भारत के हवामनविषयक उपग्रह को '' कल्पना '' नाम दिया। 

न्यूयॉर्क शहर के '' जैक्सन हाइट्स क्वीन्स 74 '' रास्ते को कल्पना चावला नाम दिया गया।  

टेक्सास विश्वविद्यालय के हॉल को  कल्पना चावला नाम दिया गया। 

कर्नाटक सरकार ने 2004 से कल्पना चावला के स्मरणार्थ '' युवा महिला वैज्ञानिक के लिए विशेष पुरस्कार की सुरुवात की गई है। 

पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज में कल्पना चावला के नाम से लड़कियों का अलग ही वसतिगृह सुरु किया है और एरोनॉटिक शाखा के लिए पुरस्कार चालू किया। 

हरियाणा राज्य के ज्योतिसर, करुक्षेत्र यहाँ  के तारंगन को कल्पना चावला नाम दिया गया है।

यह जरूर पढ़े :

• ओलिंपिक खेल (प्रतियोगिता) का इतिहास 
एम.सी.मेरीकॉम का जीवन परिचय
भारतीय बैटमिंटनपटु सायना नेहवाल की जीवनी 
गृहिणी एक सुपर वुमन 
भरोत्तोलक कर्णम मल्लेश्वरी की जीवनी 
भारतीय नेमबाज अभिनव बिंद्रा की जीवनी   
भारतीय नेमबाज गगन सारंग की जीवनी 
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.