सेब के फायदे | Benefits of Apple


Apple एक फल है, इसका रंग लाल होता है। Apple को वैज्ञानिक भाषा में मेलस डोमेस्टिका (Melus Domestica) कहते है। मुख्य स्थान मध्य एशिया है।   

• इमली का पन्ह कैसे बनाए ?


• धनिया बीज और जीरा सरबत कैसे बनाए ? 


Benefits of Apple


Apple का यूरोप में बहुत बड़े पैमाने पर उत्पादन किया जाता है। अमेरिका, सैबेरिया में भी Apple की खेती की जाती है। लेकिन भारत में सेब का उत्पादन ज्यादा नहीं होता है। हिमाचल प्रदेश के कुछ भागों में जैस से की, कुल्लू-मनाली (Kulu-Manali), शिमला (Shimla), अल्मोड़ा (Almora), कुमाऊँ (Kumaon), गढ़वाल (Garhwal) और कश्मीर (Kashmir) में ज्यादा उत्पादन लिया जाता है। सेब का पेड़ 45-55 फुट उचा रहता है। सेब के फूल गुलाबी रंग के रहते है और जल्द ही उनका फलों में रूपांतरण होता है। सेब का आकर गोल मटोल रहता है और रंग हरा, पीला, सोनेरी, नारंगी, गुलाबी और लालबुन्द रहता है। फल बहुत ही प्यारा रहता है, उसका आकर बढ़ा रहता है, चमकदार, ज्यादा समयतक रहनेवाला फल है ।

सेब के छिलके में मिनरल्स और जीवनसत्व का प्रमाण रहता है।

• नींबू खाने के लाभ 

• खरबूजा खाने के लाभ

सेब के नाम | Name of  Apple      

◼️मराठी - सफरचंद

◼️हिंदी - सेब 

◼️इंग्रजी - Apple 


सेब में जीवनसत्व ए, बी1, बी2, बी6, सी, ई आदि और  पोटेशियम (Potassium), बायोटिन (Biotin), फोलिक एसिड (Folic acid), प्रथिने (Protein), आयरन (Iron), तांबा (Copper), सल्फर (Sulfur), लेसिथिन (Lecithin) आदि मिनरल्स पाए जाते है। खाना खाने के बाद सेब खाना बहुत ही फायदेमंद है। 

सेब में शक्तिवर्धक, खुनसुधीकरण और पाचनशक्ति के लिए उपयुक्त आदि गुण रहते है। यंकृतविकार और सन्धिवात के लिए बहुत ही फायदे मंद है।

गाजर,पपीता,नींबू अचार कैसे बनाए ? 

आवला सरबत कैसे बनाए?

सेब के औषधियुक्त गुण | Medicinal properties of apples 


◼️ सेब, शहद और दूध मिलाकर पीने से मांसपेशियों में वृद्धि होती है। शरीर की हुई झिज भर के निकालता है। 

◼️ सेब में जीवनसत्व '' सी '' का प्रमाण ज्यादा मात्रा में रहता है। इंसान को प्रतिदिन 70 मिली ग्राम जीवनसत्व ''सी '' की आवश्यकता होती है। 100 ग्राम सेब से 55 ग्राम '' सी '' जीवनसत्व मिलता है। हड्डिया और दात के मजबूती के लिए जीवनसत्व की आवश्यकता रहती है। वैसे ही गर्भवती महिला के लिए भी जीवनसत्व की आवश्यकता रहती है।      

◼️ सेब का रस हगवन, आव, अतिसार, अपचन आदि के लिए लाभदायक है। 

◼️ ब्रॉकाटिस, दमा, क्षय के रोगियों ने सेब खाते समय मिरि का चूर्ण और नमक लगाकर खाना चाहिए। 

◼️ सेब को न काटते हुए दॉतों से तोड़ के चबा-चबा के खाने से मसूड़े मजबूत होते है और दातों के विकार को आराम होता है।

◼️ सेब खाने से मानसिक तान, अस्वस्थ लगना, नींद न आना, सिर दुखना आदि विकार दूर होते है।  

◼️ पीलिया, मूत्रपिं, यकृत रोग, मुतखडा आदि समस्या पर सेब के सेवन से आराम होता है। 

◼️ सेब के पेक्टिन से कफ पतला होता है और खासी हुई होगी तो मीठा सेब खाना चाहिए। सेब खाने से गले की घरास कम होती है। 

◼️ प्रतिदिन सोते समय एक माह सेब खाने से पेट के सभी प्रकार के कृमि नष्ट होते है। सेब खाने के बाद पानी नहीं पीना चाहिए। 

◼️ सेब के पेड़ की साल बॉइल करके थंडा होने पर कपडे से छान कर उसमे आधे नींबू का रस और खड़ी-शक़्कर मिलाकर कड़ा पिने से बीमार आदमी अच्छा होता है और पेट के विकार दूर होते है।

यह भी जरूर पढ़े 
Sr.No 
Health Tips Articles
S.N 
 Article Name 
 2
 2 
  3
 4
 5
 
 
 
 7
 
 8   
 9
 9 
 10 
 10 
 11
 11 
 12
 12 
 13 
 13 
 14 
 15 
 16 
 17 
 18 
 19 
जीरा खाने के लाभ
 19 
 20 
न्यूट्रीचार्ज स्ट्रॉबेरी प्रोडॉइट
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.