अनार के फायदे / Benefits of pome granate

Benefits of Pome Granate

कुदरत ने हमारे लिए इस धरती पर बहुत ही अच्छे मीठे फलों का निर्माण किया है, और ऐसे ही एक फल की जानकारी आपको मिलनेवाली है।दोस्तों हम बात कर रहे है अनार की जो अच्छी गुणकारी होती है। अनार का पेड़ भी गुणकारी होता है। '' अनार '' अफगानिस्तान का है, और अभी भारत के सभी कोने में अनार का पेड़ हमें दीखता है। अनार का पेड़ किसी के घर के आँगन में लगा रहता है, या नहीं होगा तो आप अनार के पेड़ को लगाए और फल का आस्वाद ले और आपकी सेहद अच्छी रहे इसी शुभकामना के साथ यह लेख जरूर पढ़े और अपने दोस्तों में शेयर करे।


अनार के नाम / Name or Anar    



  • संस्कृत - दाड़िम 
  • हिंदी - अनार 
  • माराठी - डाळीब  
  • इंग्रजी - POME GRANATE 


अनार के तीन प्रकार है / There are three types of pomegranate

  1. मीठा 
  2. खट्टा-मीठा 
  3. खट्टा 
इस फल में मीठा अनार सबसे अच्छा अनार है, यह वात, पित्त, ह्रदय, कृमिनाशक, मुँह को टेस्ट लाने में लाभदायक है। अनार में ए, बी-2, सी जीवनसत्व, कैल्शियम, पोटशियम, सोडियम, फ़ॉस्फ़रस, ओक्झेलिक एसिड, आयरन, कार्बोहैड्रेट, प्राथिने आदि का समावेश रहता है। अनार में ग्लूकोज और फ्रुक्टोज टैनिन रहता है। कश्मीर में अनार की खेती ज्यादा पैमाने पर होती है। अनार का फल आते समय अनार के पेड़ को बहुत ही सुंदर लाल रंग का फूल आता है, इस फूल का अनार बनता है।



अनार के औषधियुक्त गुण / Medicinal properties of pomegranate


◼️ अनार का रास प्रतिदिन पिने से ह्रदय स्वस्थ रहता है। ह्रदय विकार दूर होता है। आम्लपित, पेट का विकार, पंडुरोग, अतिसार, खासी, मुरड़ा आदि विकार पर आराम होता है।  

◼️ छोटे बच्चों को गोवर होने पर मिठे अनार का रस देना चाहिए। 

◼️पाचनक्रिया बराबर नहीं होती है,  तो खाना खाने के बाद अनार के दाने खाना चाहिए। 

◼️ लड़के होते नहीं ऐसे पुरुषों ने शुक्रजंतु बढ़ाने के लिए अनार के दाने का सेवन करनाफायदे मंद साबित हो सकता है। 

◼️ अनार के दाने निकालकर पानी में बॉइल करके, दाने से बीज अलग होने के बाद पानी को स्वच्छ कपडे से छान कर उसमे शक़्कर घुलते तक गरम करे, रस तैयार होने के बाद कांच के बरनी में पैक करके रखे। इस रस को क़दरति रंग, सुगंध, स्वाद आता है। तयार हुए सरबद को गर्मी में या सभी सीजन में पि सकते हो।     

◼️ अनार के दाने से अवलेह तैयार करते है, इसे ' दाडिमावलेह ' कहते है। यह अवलेह पाचनक्रिया, पत्त आदि के लिए फायदे मंद है। 

◼️ दात और मसूड़ों से खून निकलना, दात हिलना आदि विकारों के लिए अनार के फूल को छाव में सुकाकर बारीक़ चूर्ण तैयार करके दात घिसने से खून का निकलना , दात हिलना आदि विकार बंद होते है।     



◼️ उल्टी के लिए अनार का रस बहुत ही फायदे मंद है। पित्त बढ़के उलटी आती होगी तो मिठे अनार का रास खडिशक्कर के साथ पीना चाहिए। 

◼️ पके हुए मिठे अनार का रस, जीरा और गुड़ मिलाकर पिने से पाचनक्रिया बराबर होती है और खून बढ़ता है। खून की कमी, गर्भवती महिला इनके लिए यह ऱस बहुत ही फायदे मंद है।    

◼️ अनार फल के साल का चूर्ण शहद में मिलाकर खाने से '' कफ '' के विकार को आराम मिलता है।   

◼️ अनार का रस, शहद और खडीशक्कर मिलाकर देने से छोटे बच्चे की खासी कम होती है।    

◼️ अनार के साल का चूर्ण, जायफल का गंध और शहद मिलाकर चकते रहने से जुलाब कम होता है। 

◼️ अनार के दाने का 100 ग्राम रस लोहे के कटोरी में रात में रख कर,सुबह खड़ी-शक़्कर के साथ मिलाकर सेवन करना से पीलिया का रोग कुछ दिन में अच्छा होता है। 

◼️ नाक से खून निकलता होगा, तो अनार का रस और दुर्वासा का रस नाक में डालने से खून का स्त्राव रखता है। अनार के साल के कड़े का कुरला करने से मुख रोग की वास जाती है।  

यह भी जरूर पढ़े 


Sr.No 
Health Tips Articles
S.N 
 Article Name 
 2
 2 
  3
 4
 5
 
 
 
 7
 
 8   
 9
 9 
 10 
 10 
 11
 11 
 12
 12 
 13 
 13 
 14 
 15 
 16 
 17 
 18 
 19 
जीरा खाने के लाभ
 19 
 20 
न्यूट्रीचार्ज स्ट्रॉबेरी प्रोडॉइट
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.