केंद्र सरकार पुलिस विभाग जानकारी / Central Government Police Department Information

Central Govermment police department information
आज आपक को इस Article के माध्यम से केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में आनेवाली पुलिस यंत्रणा की जानकारी दी जाएगी और इस यंत्रणा की स्थपना कब हुई। यह जानकारी आपको पुलिस भर्ती के लिखित परीक्षा के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।

1.इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB)- Intelligence Bureau,गुप्तवार्ता विभाग

भारत के इंटेलिजेंस ब्यूरो की स्थापना सन 1835 को हुई है। उस समय में यह विभाग डकैती और ठग विभाग के नाम से जाना जाता था। कांग्रेस की स्थापना के बाद सरकार को गुप्त राजकीय जानकारी की जरूरत पढ़ने लगी और सन 1885 सिमला में इस विभाग की स्थापना हुई। सन 1948 में इस विभाग का नाम गुप्तवार्ता विभाग (इंटेलिजेंस ब्यूरो) रखा गया। देशांतर्गत राष्ट्रद्रोही संघटना के बारे में जानकारी इक्कठा करके उनका पर्दा पास करने का कार्य IB विभाग करता है। यह विभाग केंद्र सरकार के गृहमंत्रालय अंतर्गत कार्य करता है। 

2. केंद्रीय जाँच ब्यूरो (CBI)- Central Bureau of Investigation, केंद्रीय गुन्हा अन्वेषण विभाग 

केंद्रीय जाँच ब्यूरो भारत सरकार की जाँच एजेंसी है, इस एजेंसी के माध्यम से आपराधिक और राष्ट्रीयता से जुड़े हुए मामलों की जाँच करने का कार्य करती है। अपराध का खुलासा करने की जबाबदारी राजयशासन के अधिकार क्षेत्र में नहीं रहती लेकिन केंद्रशानसन के अधिकारी ने भष्ट्राचार किया होगा तो CBI जाँच कर सकती है और सन 1943 में इस विभाग की स्थापना की गई है। संधामन समिति के शिफारसनुसार 01 अप्रैल 1963 को इस विभाग को स्वतंत्र दर्जा मिला इस विभाग का कार्यालय दिल्ली में है।

CBI विभाग की खास जबाबदारी ... 
  • आंतरराष्ट्रीय अपराध की जाँच करना। 
  • आंतरराष्ट्रीय अपराध संबंध इंटरपोल के साथ संपर्क करना।
  • अपराध का खुलाशा करने के लिए नए यंत्र का उपयोग करना।  
3. संशोधक व पृथकरण विभाग Research and Analysis Wing / अनुशंधान और विश्लेषण विंग 

 अपने देश के विरुद्ध व देश के बाहर किस प्रकार की वातावरण है कैसा हालचाल है इस की जानकारी मालूम होना जरुरी होता है इसे जानने व इस इस जानकारी पर उपाय योजना करने के उद्देश्य से इस विभाग का 1968 स्थापना की गई। इस विभाग का कार्यभार गुप्तवार्ता विभाग जैसा ही अत्यंत गुप्त होता है।



4. सिमा सुरक्षा दल (BSF) Border scuriety force

भारत की अंतर्राष्ट्रीय  सीमा रेखा पर पाकिस्तान ,चीन,नेपाल,भूटान,म्यानमार,अफगानिस्तान ,व बांग्लादेश जैसे देश बसे है घूसखोरी व सीमारेखा कि रक्षा करने के उद्देश्य से भारत सरकार ने 1 दिसम्बर 1965 से सीमा सुरक्षा दल की स्थापना की गई। इस दल का मुख्यालय दिल्ली मे स्थापित है। वर्तमान मे महिला गट को भी शामिल किया गया है।

5. इंडो -तिबेटन बार्डर पुलिस (ITBP)-Indo-Tibetan Border Police

चीन ने 1962 मे तिबेट के सरहद से भारत पर आक्रमण कीया था। भारत व तिब्बत के सीमा रेखा पर जम्मू कश्मीर , हिमाचल प्रदेश, उतराखंड, उत्तर प्रदेश, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश,आदि है। यह  पाच राज्य की सीमा रेखा अति सवेदनशील माना जाता है इस सीमा रेखा की लम्बाई 3488 की.मी. है।  इस सीमा रेखा की रक्षा हेतु भारत सरकार ने 24 ओक्टोमबर 1962 मे इस संघटना की स्थापना की।

6. आसाम रायफल /Assam Rifle

आसाम राज्य के नौगांग जिल्हे मे सन 1835 को अंग्रेजो के उपनिवेशों व चाय के बागानों की रक्षा के लिए इस दल की स्थापना की गई।  आगे मे इस दल का नाम "आसाम रायफल" 1920 मे पढ़ा।  सन 1935 तक इस दल का नियंत्रण परराष्ट्रीय मंत्रालयों के हाथो मे था।  सन 1965 मे इस दल की जवाबदारी गृह मंत्रालय को सौपी गई।

7.  राष्ट्रिय सुरक्षा दल (NSG)-Nuclear Suppliers Group 

भारत की प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी इनकी हत्या के बाद दिल्ली शहर में बहुत दंगे होने लगे। इसलिय प्रधानमंत्री की सुरक्षा करने के लिए कुछ प्रशिक्षत कमांडो की सन 1984 में राष्ट्रिय सुरक्षा दल की स्थापना की गई।

8.विशेष संरक्षण समूह (SPG)-Special Protection Group  

पंतप्रधान श्रीमती इंदिरा गाँधी की हत्या दि.31.10.1984 में हुई।इस घटना के बाद VIP व्यक्ति की सुरक्षा के लिए दि.10 नोहंबर1986 को SPG - Special Protection Group की स्थापना हुई। इस ग्रुप का मुख्यालय दिल्ली में है। इस ग्रुप के माध्यम से भारत के प्रधानमंत्री और उनका परिवार , माझी प्रधानमंत्री और उनका परिवार की सुरक्षा की जाती है।

9. केंद्रीय राखीव पुलिस दल (CRPF)-Central Reserve Police Force 

केंद्रीय राखीव पुलिस दल की स्थापना 27 जुलाई 1939 को की गई। पहले सिर्फ यह दल मध्यप्रदेश राज्य  में ही कार्यरत थी। तब यह दल राजप्रतिनिधि दल के रूप में पहचाना जाता था। स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद 1949 में इस दल का नामकरण किया गया जो  "सेन्ट्रल रिजर्व पुलिस फ़ोर्स" के नाम से जाना जाता है।  देश के आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था के लिए यह दल हमेशा तत्पर रहता है। जातीय दंगे व अन्य अराजक परस्तिथि यो मेंजैसे कोई भी राज्य के कानून व सुव्यवस्था में अड़चन आने पर ,इस दल में कर्मचारी की नियुक्ति तत्काल की जाती है।  इस अतिरिक्त , टेरिरिझम के विरुद्ध में   (Operation Against Extremism), डाकुओ का बिमोड व हालही में हुए श्रीलंका के शांतिदूत इस प्रकार के मोहिम में इस दल के कर्मचारियों का सहभाग था।



10. केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा दल (CISF)-Central Industrial Security Force

भारत देश आजाद होने के बाद भारत सरकार ने सार्वजानिक क्षेत्र के उद्योग की सुरुवात की। उदा. ओ नए जी सी ,भारत पेट्रोलियम, राष्ट्रिय केमिकल, व फर्टिलाइजर इत्यादि उपक्रम गृह उपयोगी गैस ,खाद ,रसायन इत्यादि वस्तुकी निर्मिति होती थी।  इन सभी उद्योगोको राष्ट्रिय सम्पति के रूप में जाना जाता था।  जिससे इनकी सरंक्षण के उद्देश्य से इस दल का निर्माण किया गया।  इस दल की स्थापना 1969 में दिल्ली में की गई।  सुरुवात में सिर्फ 2 उपक्रम के रक्षा के लिए इसका गठन किया गया था लेकिन आज भारत सरकार  के सभी अंगीकृत उपक्रम के संरक्षण हेतु इस दल का उपयोग किया जाता है।

11. रेलवे प्रोटेक्सन फ़ोर्स (RPF)-Railway Protection Force 

भारत में सर्वप्रथम 1854 में रेल की सुरुवात हुई।  रेलवे के संपति के सरंक्षण हेतु पहले चौकीदार होते थे।  सन 1882 में रेलवे सम्पति के सरक्षण हेतु एक स्वतंत्र संघटना स्थापित की गई।  स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत सरकार ने 29 अगस्त 1957 को रेलवे प्रोटेक्सन फ़ोर्स एक्ट पारित करने के बाद यह दल मुख्य रूप में अतित्व में आया।  इस कायदे के अंतर्गत इस दल के कर्मचारी को कुछ विशेष अधिकार सौंपे गए। मुंबई में छत्रपति शिवाजी टर्मिनल रेलवे स्टेशन पर RPF के विभाग का मुख्यालय स्थापित है।  यहां पुलिस महानिरीक्षक दर्जे का अधिकारि नियुक्ति पर है।

13. तत्काल कार्यवाहि दल (RAF)-Rapid Action  force 

सन 1992 में देश के जातीय दंगलों पर  नियंत्रण पाने हेतु इस दल की स्थापना की गई। इसका  मुख्यालय आर के पुरम ,नई दिल्ली में स्थित है।  महाराष्ट्र में तळोजा के पास नई मुंबई ,के बटालियन क्रमांक 102 में दल की एक टुकड़ी रहती है।     

यह भी जरूर पढ़े
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.