आम की लस्सी कैसे बनाये ? | How mango lassi made?


नमस्ते, आज का लेख है,' आम की लस्सी कैसे बनाये ?' आम सभी का परिचित फल है। आम ने सभी के दिलों में अपना स्थान बनाके रखा है। गर्मी के मौसम में आम का आस्वाद लिया जाता है। आम बहुत ही मीठा फल है। आम स्वास्थ्वर्धक है। भारतीय आम अपने स्वाद से पुरे विश्व में प्रख्यात है। भारत में 1400 प्रकार की प्रजाति के आम पाए जाते है। 210 आम की कलम प्रजाति पाई जाती है। आम का उपयोग चटनी, अचार, खटाई, आम पापड़,  पना, जूस, कैंडी, सब्जी और ज्यूस, लस्सी आदि के लिए किया जाता है। 
आम खाने के फायदे 
आँवला के लाभ
अनानास खाने के लाभ


How mango lassi made?

▪️ बादाम लस्सी कैसे बनाये ?
▪️ मीठी लस्सी कैसे बनाये ? 
▪️ संतरा लस्सी कैसे बनाये ?



 आम को फलों का राजा कहते है। आम का वैज्ञानिक नाम मेंगिफेरा इंडिका है। आम फल की प्रजाति भारतीय उपमहाद्वीप में मिलती है। भारत, पाकिस्तान और फिलीपींस आदि देशों में आम को राष्ट्रिय दर्जा दिया है और बांग्लादेश में आम के पेड़ को राष्ट्रिय दर्जा मिला है। संस्कृत भाषा में आम को आम्र कहते है।  

आम के पोषणतत्व की जानकारी ( मात्रा 100 ग्राम ) |  Nutritional information of mango ((Volume 100 grams)

 पौष्टिक गुण 
 मिनरल्स, विटामिन्स 

 नमी - 81. 0 %
प्रोटीन - 0.6 %
वसा - 0. 4 %
मिनरल्स - 0. 4 %
फाइबर 0. 7 %
कर्बोहाइडेट्स - 16. 9 %


कैल्शियम - 14 मि.ग्राम 
फास्फोरस - 16 मि.ग्राम 
आयरन - 1.3 मि. ग्राम 
विटामिन सी,
विटामिन बी - 16.0 मि.ग्राम 
कॉम्पेक्स - कम मात्रा में 

▪️ सेब की लस्सी कैसे बनाये ?
▪️ अनानास की लस्सी कैसे बनाये ?
▪️ कुदरत का अनमोल उपहार 'शहद '

  आम पेड़ के गुणकारी लाभ | Healthy benefits of the mango tree

▪️आयुर्वेद के नुसार आम के पेड़ के पांच अंग बहुत ही उपयोगी है। 
1 अंतर्छाल का क्वाथ - प्रदर , खुनी बवासीर, फेफड़ों और आतों से खून निकलने पर दिया जाता है। 
2 छाल, 3 जड़, 4 .पत्तिया - मलरोध, वात और पित्त दूर करते है।  
5. आम के फुलों का चूर्ण - अतिसार के लिए उपयोगी। 
▪️ आम के बौर से वातरोगी, मलरोध, अग्निदीप, रुचिवर्धक और कफ, पित्त प्रमेह, प्रदर, अतिसार आदि से आराम दिलाता है। 
▪️ कच्चा आम सेवन करने से खट्टा, वात, पित्त को निर्माण करनेवाला, आंत सिकोड़ना, गलेकि व्याधियों की समस्या, अतिसार, मूलव्याधि आदि के लिए बहुत ही फायदेमंद है। 
▪️ पका आम सेवन करने से वीर्यवर्धक, वातनाशक, प्रमेहनाशक, बड़ी आंत की सूजन और अल्सरेटिव कोलाइटिस तथा अधिरक्तस्त्राव आदि रोगों को दूर करता है। 
▪️ आम में विटामिन ए और बी का सत्व रहता है। आम के रस में दूध मिलाकर पिने से स्वास्थ्य की खराबी, श्वास, रक्तविकार और दुर्बलता आदि रोगों से छुटकारा हो सकता है। 


▪️ फल का छिलका पीस कर देने से गर्भाशय रक्तस्त्राव, कफादि मल आदि समस्या से छुटकारा मिलता है। 
▪️ आम के गुठली की गिरी पीसकर चूर्ण बनाये और अतिसार, प्रदर के रोगियों को 2 चमच देना चाहिए, कृमिनाशक भी है।      
▪️ आम फल में पोटॅशियम और मैग्नीशियम सत्व रहता है इसके कारण High blood pressure नियंत्रित होता है। 
▪️ आम में कैलोरी की मात्रा रहती है, इसके कारण दुपबले, पतले आदमी ने आम का सेवन करना चाहिए, वजन बढ़ता है।  
▪️ आम खाने से पेट दर्द, अपचन और एसिडिटी से छुटकारा मिलता है और पाचनक्रिया बराबर रखता है।  
▪️ आम में आयरन का सत्व पाया जाता है, इस सत्व के कारण अपने शरीर की खून की कमी को भरके लाता है और एनिमिया बीमारिसे बच सकते है।▪️ आम में विटामिन बी6 की मात्रा रहती है, इस मात्रा के कारण मष्तिष्क शांत और तेज रहता है। 
▪️ आम का ज्यूस पिने से आँखों की रौशनी तेज होती है। 
How mango lassi made?



आम की लस्सी बनाने की सामग्री | aam kee lassee banaane kee saamagree

◾5 चमच चीनी 
◾1 कप दही 
◾इलायची पीसी हुई 
◾बादाम या पिस्ता के बारीक़ टुकड़े 
▪️ कमल पुष्प के बहुगुणी लाभ
 ▪️ गेंदा पुष्प के बहुगुणी लाभ
आम लस्सी बनाने का नुख्खा | aam lassee banaane ka nuskha
5 चमच चीनी, 1 कप दही और 2 कप पानी डालकर मिक्सी मे मिश्रण बनाए। बादाम या पिस्ता के बारीक़ टुकड़े डालिए और उपर से चुटकी भर पिसी हुई इलायची पाउडर डालिए अब मीठी लस्सी तैयार है।

3 आम लीजिए, आम का छिलका निकाल दीजिए, मिक्सी में पिस लीजिए और पेस्ट को मीठी लस्सी के ग्लास में 2 चमच डाल दे और अच्छी तरह मिला लीजिए ऊपर में चुटकीभर जायफल का पाउडर छिड़के। आम की सुगंधित एंव स्वादिष्ट लस्सी तैयार है।     
 यह भी जरूर पढ़े 


Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.