भारतीय वैज्ञानिक '' ब्रम्हगुप्त '' | Indian scientist 'Brahmagupta'


प्राचीन भारतीय वैज्ञानिक ब्रम्हगुप्त का जन्म इ.सा. 598 को पंजाब राज्य के मुलतान के पास भिल्लमाला नगर में विष्णु नाम के एक विद्वान के घर हुवा। ब्रम्हगुप्त ने उम्र के 30 वे साल में '' ब्रम्हस्फुट '' सिद्धांत की रचना किया। चप घराने के व्याघ्रमुख राज्य के दरबार में अपना आश्रय लिया। गणित विषय की ' शून्य ' संख्या के संकल्पना का जनक '' ब्रम्हगुप्त '' को कहते है। 

भारतीय वैज्ञानिक '' आर्यभट ''
विश्व की 10 सबसे ऊंची मुर्तिया 
लाला लजपतराय की जीवनी 


भारतीय वैज्ञानिक '' ब्रम्हगुप्त '' | Indian scientist 'Brahmagupta'



शहीद भगतसिंग विजय गाथा
शहीद सुखदेव विजय गाथा 
शहीद राजगुरु विजय गाथा

शून्य का उपयोग गणित विषय में होने लगा तभी अंकगणित के बड़े अंक लिखना बहुत ही सरल हुए। क्यों की इसके पहले रोमन अंक में लिखना बहुत ही कठिन था। रोमन पद्धत में दस के लिए x, पांच के लिए v, सौ के लिए c आदि रोमन भाषा में लिखते है। गुणाकर - भागाकार करने के लिए ब्रम्हगुप्त का शून्य की खोज बहुत ही महत्वपूर्ण है। एक शून्य रखे की सौ, आगे और एक शून्य रखे की हजार इस तरह से संख्या लिखने में बहुत ही सरल हुई। 

ब्रम्हगुप्त ने बीजगणित पर '' कुट्टकाध्याय ''  की रचना की और खगोलगणित के प्रश्न, ग्रह गणित छुड़ाना सरल हुवा। ब्रम्हगुप्त ने पृथ्वी गोल है यह ब्रम्हगुप्त ने स्पष्ट किया। ब्रम्हगुप्त का ब्रम्ह - स्फुट सिद्धांत इ.सा. 771 में अरबी भाषा में भाषांतरित हुआ। 

स्वातंत्रवीर सावरकर 
क्रांतिरत्न वासुदेव बलवंत फड़के 
क्रांतिवीर उमाजी नाईक विजय गाथा

व्याघ्रमुख राजा ने ब्रम्हगुप्त को आश्रय दिया था इस कारण ब्रम्हगुप्त ने गणित का अभ्यास किया। इ.सा.665 में ब्रम्हगुप्त ने  ' खंड खाद्य ' नाम का विज्ञान ग्रंथ निर्माण किया। 

ब्रम्हस्फुट सिद्धांत में ब्रम्हगुप्त ने बीजगणित, भूमिति और खगोलविज्ञान आदि विषय के संशोधन सामिल किये गए और ग्रह ज्योतिष विद्याका विकास होने लगा। 

ब्रम्हगुप्त ने गणित विषय को शून्य की बहुमूल्य देन दिया।  

प्रगतशील प्राचीन भारतीय वैज्ञानिक का निधन इ.सा. 665 को हुआ।   

यह भी जरूर पढ़े 

▪️ राजा गुलाब के बहुगुणी लाभ 
▪️ तुलसी के बहुगुणी लाभ
▪️ चंपा पुष्प के बहुगुणी लाभ
▪️ मोगरा पुष्प के बहुगुणी लाभ
▪️ गुड़हल पुष्प के बहुगुणी लाभ
▪️ कमल पुष्प के बहुगुणी लाभ
▪️ गेंदा पुष्प के बहुगुणी लाभ 
▪️ पारिजात वृक्ष के बहुगुणी लाभ 


• डॉ.सी.व्ही रामन की जीवनी  
• मदर तेरेसा की जीवनी
• डॉ. शुभ्रमण्यम चंद्रशेखर की जीवनी 
• डॉ.हरगोनिंद खुराना की जीवनी 
• डॉ.अमर्त्य सेन की जीवनी 
• डॉ.व्ही.एस.नायपॉल की जीवनी 
• डॉ.राजेंद्र कुमार पचौरी की जीवनी
• डॉ.व्यंकटरमन रामकृष्णन की जीवनी
 मदर टेरेसा की जीवनी
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.