भारतीय वैज्ञानिक '' हरिषचंद्र '' | Indian scientist Harishchandra


विश्व के महान भारतीय गणितीतंज्ञ रामानुजन के बराबर का श्रेय हरिषचन्द्र को दिया जाता है।

डॉ.राजा रामण्णा की जीवनी  
आय झैक न्यूटन की जीवनी 


भारतीय वैज्ञानिक हरिषचंद्र | Indian scientist Harishchandra

भारतीय वैज्ञानिक '' आर्यभट ''
भारतीय वैज्ञानिक '' ब्रम्हगुप्त '' 

हरीषचंद्र का जीवन परिचय | Harishchandra's life introduction

हरीषचंद्र का जन्म 11 अक्टुंबर 1923 को उत्तर प्रदेश के कानपूर शहर में हुआ। स्कुल की पढ़ाई कानपूर में होने के बाद उन्हों ने अलाहाबाद विद्यापीठ में सैद्धांतिक भौतिकशास्त्र का अभ्यास पूरा किया। '' पॉल डीरेक के प्रिंसिपल्स ऑफ़ क्वांटम मेकेनिक्स ''  नाम का विज्ञानग्रंथ पढ़ा और हरिषचंद्र को विज्ञान में संशोधन करने की प्रेरणा जागृत हुई।

हरीषचंद्र ने सन 1943 में एम.एससी की डिग्री ली और सैद्धांतिक भौतिकशास्त्र के उच्च शिक्षा के लिए बैंगलोर के विज्ञान संस्था में दाखल हुए। कुछ माह में हरीषचंद्र ने पॉल डीरेक के मार्गदर्शन में पीएच.डी करने के लिए केंब्रिज विद्यापीठ में नाम दाखल किये। केम्ब्रिज विद्यापीठ में हरीषचंद्र को भौतिकशास्त्र से ज्यादा गणित में रूचि लगने लगी।

डॉ. विक्रम साराभाई 
डॉ. होमी भाभा 


केंब्रिज विद्यापीठ में महान वैज्ञानिक पॉली के विज्ञान व्याख्यान सुनने के लिए गए और हरीषचंद्र ने उनके काम से गलतिया निकाली। हरीषचंद्र और पॉली दोनों बहुत ही अच्छे दोस्त बने।

हरीषचंद्र ने सन 1945 में पीएच.डी की पदवी प्राप्त किया। उनका संबंध जर्मन गणितीतंज्ञ वाइल और दक्षिण आफ्रिकी गणिति शेबले इनके साथ होने के कारण गणित विषय में संशोधन करना चाहिए ऎसा उन्हों ने सोचा कोलंबियन विद्यापीठ में हरीषचंद्र ने ली अलजिबराज के गणित शाखा में मुलभुत संशोधन किया।

सन 1963 से हरीषचंद्र ने प्रिस्टन के इन्स्टीट्यूट फॉर अडव्हान्स स्टडी इस संस्था में कार्य करने लगे। सन 1968 में प्रोफेसर पद पर नेमणुक हुई।



पुरस्कार | Award 

  •  इंग्लडन के रॉयल संस्था ने उन्हें सभासदत्व का बहुमान बाहल किया।
  •  अमेरिक के नॅशनल अकेडमी ऑफ़ सायन्स संस्था के सभासद बने। 
  • अमेरिकन मैथेमैटिकल सोसायटी ने कोल पुरस्कार से सन्मानित किया।    
  • सन 1974 में भारतीय विज्ञान अकेडमी ने रामानुजन पदक प्रदान किया गया।
  • अलाहाबाद विज्ञान अनुसंधान संस्था का हरीषचंद्र रिसर्च इन्स्टीट्यूट के नाम से नामकरण किया गया। 


मृत्यु | death    

हरीषचंद्र का निधन हृदयविकार से दि.16 अक्टूबर 1983 में हुआ।     

यह भी जरूर पढ़े
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.