05 दिसंबर 2018 से पैन कार्ड नियम बदल गए | Pan Card Rules changed from 05th December 2018


Pan Card हमें भारत सरकार के इनकम टैक्स विभाग से मिलता है। पैनकार्ड का उपयोग हम अपने पहचान के लिए दिखा सकते है। Pan Card की आवश्यकता बैंक में खाता खोलने के लिए और आयकर रिटर्न के लिए होती है। सरकार को पैनकार्ड के दुरुपयोग की शिकायतों के कारण आयकर विभाग ने पैनकार्ड के नियमों में बदलाव किया है और यह नियम 05 दिसंबर 2018 से लागु हो गए है। इंकमटैक्स की चोरी बचने के लिए वित्तमंत्रालय ने दि 05 दिसंबर 2018 से पैनकार्ड नियमों में बदलाव  किया है। नये नियमों की जानकारी इस लेख के माध्यम से आपको मिलनेवाली है।

बैंकिंग क्षेत्र में पैनकार्ड का महत्व 
Paytm पर खाता बनाये ? 



05 दिसंबर 2018 से पैन कार्ड नियम बदल गए | Pan Card Rules changed from 05th December 2018

फेसबुक अकाउंट कैसे बनाये ?
Gmail ID कैसे बनाये ?

05 दिसंबर 2018 से नए पैनकार्ड नियम | New pan card rules from 05 December 2018

05 दिसंबर 2018 से पैनकार्ड नियमों में वित्तमंत्रालय ने बदलाव करके लागु किया है। दोस्तों नए नियम जरूर पढ़े..

➧ इंकमटैक्स की चोरी कम करने के लिए वित्तमंत्रालय ने 05 दिसंबर 2018 से नये नियम लागु किये है। 
➧ केंद्रीय कर बोर्ड  ( CBDT:- Central Board of  Direct  Taxes) के नियमों नुसार कोई व्यक्ति वित्तीय वर्ष में 2.5 लाख ( ढाई लाख ) का लेन-देन या उस से ज्यादा का व्यवहार करते है, उन व्यक्ति को पैन कार्ड के लिए 31 मई 2019 के पहले आवेदन करना जरुरी है।      
➧ आयकर नियम 1962 के नुसार नये नियम व्यक्तिगत कर दाता और वित्तीय संस्थाओं के लिए जरुरी। 
➧ कोई व्यक्ति किसी संस्था में मुख्य करकरी अधिकारी, प्रबंधक, पार्टनर, लेखक, ट्रस्टी, संस्थापक, मुख्य अधिकारी, पद पर आदि को 31 मई 2019 तक पैन नंबर के लिए आवेदन करे।    
➧ वित्तीय वर्ष में कुल बिक्री, कारोबार या कुल आय 5,00,000 /- से कम होती होगी उनके लिए भी पैन नंबर जरुरी है।  
➧ केंद्रीय कर बोर्ड अधिसूचना के नुसार पैनकार्ड बनाने के लिए  पिता का नाम देना जरुरी नहीं है। 

यह भी जरूर पढ़े
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.