''ऑनलाइन बैंकिंग'' में पैनकार्ड का महत्व | Importance of PAN Card in ''Online Banking''


दोस्तों नमस्ते, आपका pravingyan.com में स्वागत है, विश्व में सभी नागरिक की पहचान है और पहचान बताने के लिए ID proof  की आवश्यकता होती है। आप जिस देश के निवासी है उस देश के सरकार द्वारा पंजीकृत किया गया दस्तावेज होना जरूर है। जैसे की आपके पास आधार कार्ड, इलेक्शन कार्ड, ड्रायविंग लायसेंस आदि दस्तावेज हमारी पहचान बताते है। ठीक इसी तरह और एक पहचान का दस्तावेज है जो ''Online Banking'' के लेन-देन व्यवहार करने में बहुत जरुरी है जिसका नाम '' पैनकार्ड '' है। 

फेसबुक अकाउंट कैसे बनाये ? 
Paytm पर खाता बनाये ?



 बैंकिंग क्षेत्र में पैनकार्ड का महत्व  | Importance of PAN card in banking sector

पैन कार्ड हमें क्यों अनिवार्य है ? Why is Pan Card mandatory? ऑनलाइन बैंकिंग में पैन कार्ड का उपयोग कैसे किया जाता है? How PAN Card is used in online banking? राशि जमा करते समय पैनकार्ड की जरूरत क्यू होती है ? Why a PAN card is needed when depositing the amount ? पैनकार्ड का अर्थ क्या है ? What is the meaning of PAN ? आदि की जानकारी मिलनेवाली है।

Gmail ID कैसे बनाये ?
ईमेल क्या है ?

पैनकार्ड (PAN) का अर्थ | Meaning of Pan Card 

दोस्तों आपको ''Online Banking'' में पैनकार्ड का महत्व बताने से पहले सर्व प्रथम पैनकार्ड का अर्थ क्या है ? इसके बारे में हमें पता होना अनिवार्य है। तो चलिए दोस्तों जानते है पैनकार्ड का अर्थ जिस तरह से व्यक्ति का नाम रखा जाता है, ठीक उसी तरह '' पैनकार्ड '' का भी नाम रखा गया है। जिस तरह से भारत के छोटे से लेकर बड़े  नागरिकों को आधारकार्ड दस्तावेज की आवश्यकता है। उसी तरह भारत के नागरिकों को '' पैनकार्ड '' दस्तावेज की आवश्यकता है। हा तो दोस्तों जानते है पैनकार्ड का नाम , अर्थ और मतलब......... 

P - Permanent
A - Account
N - Number  

दोस्तों पैनकार्ड का नाम स्थाई खाता संख्या (Permanent Account Number) है। जिसे भारत के सभी नागरिक पैनकार्ड (PAN Card ) के नाम से जानते है। Pan Card अद्वितीय दस्तावेज है। और बैंकिंग क्षेत्र में बहुत जरुरी होता है। पैनकार्ड में 10 अंकों की एक अल्फान्यूमेरिक संख्या अज्ञात बनी हुई रहती है। पैनकार्ड हमें भारत सरकार के आयकर विभाग (INCOME TAX DEPARTMENT) से एक लेमिनेटेड कार्ड के रूप में प्राप्त होता है। पैनकार्ड income tax act, 1961 के नुसार भारत में INCOME TAX DEPARTMENT CENTRAL BOARD FOR TAXES की देखरेख में जनहित में जारी किया गया  है।

कार्ड में ABCD12345E इस तरह का एक नंबर वर्णमाला और अंको में लिखा रहता है उसी नंबर को पैन नंबर कहते है। कार्ड में लिखे 10 digit में हमारी जानकारी विस्तृत बनी हुई है। पैनकार्ड में लिखे पहले के पांच अक्षर इंग्लिश वर्णमाला में लिखे रहते है, बाद के चार अक्षर अंकों में लिखे रहते है और लास्ट में इंग्लिश के वर्णमाला में एक अक्षर लिखा रखता है जैसे की, ABCD1234E इस तरह से पैनकार्ड में 10 अंकों का नंबर लिखा रहता है, जिसे हम पैन नंबर कहते है।

पैनकार्ड ATM की तरह रहता है। पैनकार्ड एक स्मार्ड कार्ड है। पैनकार्ड पर आपका पूरा नाम, जन्म तिथि , फोटो और साइन आदि जानकारी रहती है। 
पैनकार्ड को आधारकार्ड से ऑनलाइन कैसे link करे? 
पैनकार्ड नंबर दर्ज करे और अपनी पहचान का प्रमाण दे 


पैन कार्ड के 10 अंकों की जानकारी | 10-digit information of PAN card 

 1 . पैनकार्ड पर लिखे गए पहले के तीन वर्ण वर्णमाला (अंग्रेजी लेटर ) में लिखे रहते है। तीनों digit आयकर विभाग तय करता है।  

2 . पैनकार्ड पर लिखा गया चौथा वर्ण व्यक्ति के स्थिति, परिस्थिति, स्थान, दशा, स्थल, अधिकार, स्टेटस  आदि के बारे में दरसाता है। दोस्तों थोड़ा गौर करके देखा जाये तो पैनकार्ड में लिखा चौथा अक्षर व्यक्ति के नाम पर रहता है।  PFCATHBLJG आदि अंग्रेजी लेटर से कोई भी लेटर चौथा हो सकता है। इन लेटर का Full form निचे दिया गया है ... 

P -  person Single  

F -  Form 

A - Associate of Person 

C - Company 

T - Trust

B - Body of indigenous

H - Hindu Undivided Family 

J - Local 

L - Artificial Juridical Person 

G - Government आदि लेटर से कोई भी अक्षर चौथा हो सकता है। 

3 . पैनकार्ड पर लिखा पांचवा digit अँग्रेजी में रहता है उस व्यक्ति के नाम या उपनाम का अक्षर रहता है।
4 . पैनकार्ड का छटवा, सातवाँ, आठवाँ और नौवा आदि तक के अंक में 0001 से 9999 तक के अंको से लिए जाते है। यह नंबर आयकर विभाग में चल रहे सीरीज को दर्शाते है।
5 . पैनकार्ड का दसवाँ digit अंग्रेजी में रहता है और यह digit आयकर विभाग अपने हिसाब से जारी करता है।


पैनकार्ड ऑनलाइन कैसे बनाये ?
नाम, DOB और उपनाम के साथ पैन नंबर खोजे 

''ऑनलाइन बैंकिंग'' में पैनकार्ड का महत्व  | Importance of PAN Card in ''Online Banking''

पैनकार्ड वित्तीय क्षेत्र में बहुत ही जरुरी दस्तावेज है। अगर आपका पैनकार्ड नहीं है तो आपको बैंकिंग क्षेत्र के कामकाजो में रुकावट आ सकती है। जी हा दोस्तों अभी नोटबंदी से पैनकार्ड की आवश्यकता ज्यादा ही बढ़ गई है। कुछ समय पहले सरकार ने आईटी रिटर्न भरने के लिए आधारकार्ड अनिवार्य किया था। ठीक उसी तरह पैनकार्ड भी बहुत जरुरी दस्तावेज है। क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड का उपयोग हम करते है। लेकिन इन कार्ड के साथ-साथ हमारा परमानैंट अकाउंट नंबर बहुत जरुरी है जिसे हम पैन नंबर कहते है।  

◾ यदि आप बैंक में 5,00,000 / - से अधिक निवेश करते हैं, तो आपको बैंक में अपना पैन कार्ड देना होगा।
◾ यदि वार्षिक ब्याज 10,000 / - से अधिक है, तो बैंक आपसे टीडीएस 30% लेती है। इसलिए कर माफ़ होने के लिए आप अपना पैनकार्ड नंबर बैंक में दर्ज करे।  
◾ यदि कैशकार्ड या प्रीपेड कार्ड का 50,000 /- से अधिक भुकतान होने पर,  बैंक में पैन नंबर देना जरुरी है।  
◾ D-Mat खाता खोलने के लिए पैनकार्ड अनिवार्य है।  
◾ रेंट पर रहनेवाले को साल में 1,00,000 /- से ज्यादा किराया अदा करना पड़ता होगा ऎसे व्यक्ति ने अपने मकान मालिक को अपना पैनकॉर्ड नंबर देकर, एचआरए टैक्स का लाभ उठा सकते है।    
◾अदि आप व्यापर करते हो और एक साल में 5,00,000 /- से ज्यादा की बिक्री होती है तभी हमें पैन नंबर की आवश्यकता होती है।  
◾Returns from the IT department, Buying a car, Opening the account in the bank, Fixed Deposit,
Investment, Buying foreign currency आदि के लिए पैनकार्ड की आवश्यकता होती है। 
◾ If the life insurance payment is more than 50,000
◾ If you have to deposit 50,000 more cash in the bank, then it is necessary to have a PAN card.

यह भी जरूर पढ़े
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.