न्यूट्रीचार्ज किड्स की जानकारी | Information about nutritious kids


बच्चे हमारे घर के चिराग है। सभी परिवार अपने बच्चों को खुश, स्वस्थ और फिट देखना चाहते हैं। (All families want to see their children happy, healthy and fit) माता-पिता चाहते हैं कि मेरा बच्चा बुद्धिमान और चतुर बने। (Parents want my child to become intelligent and clever.) बच्चों के स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए। (Care should be taken to the health of children.)

बच्चें कमजोर होना माता-पिता के लिए बहुत ही परेशानिवाली बात रहती है। अक्सर, बच्चे कमजोर होते हैं, उनका शारीरिक और मानसिक विकास बहुत महत्वपूर्ण होता है। (Often, children are weak, their physical and mental development is very important.) बच्चें देश के भविष्य है घर के चीराग है इनके स्वास्थ्य के तरफ ध्यान देना चाहिए। बचों के तेज दिमाग और स्वास्थ्य शरीर दोनों के लिए अच्छा पोषण भी आवश्यक है।

सुबह का PVMF Breakfast क्या है ?

पोषण विज्ञान क्या है ?

न्यूट्रीचार्ज किड्स की जानकारी | Information about nutritious kids

न्यूट्रीचार्ज मेन टेबलेट के फायदे 

न्यूट्रीचार्ज वुमेन टेबलेट के फायदे 

हर व्यक्ति, सभी माता पिता और परिवार का सपना होता है की हमारे बच्चों का भविष्य अच्छा बने, उनके बेहतर भविष्य के लिए शुरुआत से ही अच्छी शिक्षा देना जरूरी है। (Good education is necessary from the beginning for their better future.) इसके लिए अच्छे स्कूलों में दाखिला और मोटी फीस भी देते है। लेकिन इसके साथ-साथ आपको अपने बच्चों को अच्छा पोषण भी देना जरुरी है। रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ना चाहिए ?(Should the immune power increase?) अच्छा मानसिक विकास होना चाहिए?,  (Must be good mental development?) और तेजी से शाररिक विकास होना चाहिए? (Must be rapid physical growth?) इस तरह की वृद्धि सभी माता-पिता अपने बच्चों में देखना चाहते हैं। इसके लिए आपको अपने बच्चों को देना होगा ''न्यूट्रीचार्ज किड्स'' इस लेख के माध्यम से 'न्यूट्रीचार्ज किड्स' के फायदे क्या है, जानकारी जरूर पढ़े और अपने बच्चों को स्वास्थ्य बनाये.....

आवश्यकता | Requirement  

जंक फ़ूड के चलन की वजह से पोषक तत्व भोजन से कम ही मिल पाते है। पोषक तत्वों की कमी से बच्चों का बार-बार बीमार होना, शारीरिक दुर्बलता, पढ़ने व खेलकूद में अरुचि, भोजन में अरुचि, शारीरिक विकास में कमी आदि समस्याएँ आमतौर पर पाई जाती है। बचपन की शारीरिक कमियाँ बड़े होने तक नकारात्मक प्रभाव डालती है। ज्यादातर मार्केट में उपलबध बच्चों के सप्लीमेंट्स में पोषक तत्व कम और शक़्कर, चॉकलेट व मिल्क पाउडर ज्यादा पाई जाती है जिससे उनका समुचित विकास नहीं हो पाता है।

Due to the increased trend of junk food among children, they get less nutrients and due to the lack of nutrients, frequent illness among children, physical impairment, are visible. These deficiencies during childhood days may pose negative consequences at adulthood. Most of the supplements available in the market are less nutritious and contain more sugar, chocolate and milk powder resulting in poor physical and mental benefits.

 RCM Business में फॉर्म कैसे भरे ?
न्यूट्रीचार्ज प्रोटीन रेंज जनकारी 


विशेषज्ञ के अनुसार, पोषक तत्वों की कमी क्या है | According to the expert, what is the nutrient deficiency


1. बच्चों को पोषण तत्व की जरूरत होती है ऎसा स्वास्थ्य संघटनाएँ भी मानती है।

2. WHO (World Health Organization) विश्‍व स्वास्थ्‍य संगठन ने भी बच्चों के स्वास्थ्य के लिए भी आरडीए दिय है।

3. पोषक तत्व के अपर्याप्त सेवन से बच्चों के विकास में अपरिवर्तनीय बढाए आ सकती है जैसे की,
  • बच्चों के लम्बाई में ठहराव :- पर्याप्त प्रोटीन न मिल पाने से। 
  • बच्चों के दिमाग का कम विकास होना :- डीएचए व दिमाग को पोषण देनेवाले तत्वों के कम सेवन से  

4. ऊँचाई उम्र के हिसाब से कम होती है। मानशिक और शारारिक विकास नहीं होता।

5. दुनिया में पोषण तत्व के कमी से कम पोषण पानेवाला तीसरा बच्चा भारत में पाया जाता है।

6. भारत में पाँच वर्ष से कम उम्र वाले लगभग आधे बच्चें (48 %) लंबे समय से कुपोषित रहते है।

7. उनकी उंचाई उम्र के हिसाब से काफी कम होती है, उनका विकास अधूरा होता है।

8. पोषण की कमी से होनेवाली दुर्लभता से बच्चे अपनी ऊँचाई के हिसाब से काफी पतले और वजन में हलके रह जाते है।

9. भारत में पाँच वर्ष से कम उम्र वाले लगभग 43 % बच्चों का वजन उनकी उम्र के अनुपात में असामान्यतः कम होता है।

प्रोटीन बच्चों के विकास के लिए महत्वपूर्ण पोषक तत्व | Protein vital nutrients for the development of children

  • बच्चों को हर दिन 13.34 ग्राम की जरूरत होती है। 
  • सामान्यतः बच्चों को दिए जानेवाले आहार से इस आवश्यकता को पूरा करने में मुश्किल हो सकती है। 

प्रोटीन के फायदे | Benefits of protein
  • बच्चों के विकास के लिए मददगार 
  • शारीरिक अंगों का रखरखाव 
  • मांपेशिया बनाने में सहायक 
बढ़ते बच्चों  रोजाना 20 ते 30 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता हो सकती है। अगर यह प्रोटीन कम मिले तो रोगप्रतिरोग शक्ति कम होती है और कमजोरी, विकास में कमी डायरियाँ जैसी बिमारियों का सामना करना पड़ता है।




बच्चों में प्रोटीन की कमी क्यों होती है | Why children lack protein
  • जन्म से ही बच्चें में कमी 
  • अपर्याप्त आहार 
  • डायरिया (दस्त) या पेट में कीड़े 
  • बार-बार बीमार पड़ना या संक्रमण होना 
  • रोगप्रतिरोग क्षमता में कमी 
  • लगभग 50 % स्कुल जानेवाले बच्चे नियमितरूप से नाश्ता नहीं कर सकते है। 
  • रातभर के नींद के बाद उनके बढ़ते शरीर को पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। 
  • नाश्ता न करने से उनके शारिरिक विकास, उत्साह, शिकणे की क्षमता, याददाश्त व शैक्षणिक प्रदर्शन के साथ-साथ भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक  
  • भोजन करने में बच्चे आनाकानी करते है। 
  • 81 % भारतीय माताएं मानते है की उनके बच्चें भोजन करने में आनाकानी करते है। 
  • 70 % माताएं का कहना है की, हमारे बच्चें में ऊर्जा का अभाव है और वे जल्दी थक जाते है। 
फिर भी हमें लगता है की, हमारा बच्चा अच्छे से खाता है, थकता नहीं है और स्वस्थ दीखता है लेकिन एक चीज आपको बताना चाऊंगा की, दरसल अध्ययनों से पता चला है की जो स्वस्थ दिख रहे बचें उनमे भी दरसल पोषण की कमी रहती है। 


स्वस्थ दिखनेवाले बच्चे भी पोषक तत्वों की कमी से ग्रसित हो सकते है (नुट्रिशन संस्थाओं की रिपोर्ट) | (Report of Nutrition Institutions)  
  • भारत के NNMB (National Nutrition Monitoring Bureau of India) के अनुसार सामान्यतः स्वस्थ लग रहे बच्चों में से 50 % से अधिक बच्चों में विटामिन A, B2, B6, C, फोलिक एसिड की कमी होती है।
  • United Nations Sub-Committee के अनुसार बच्चों को सामान्यतः लिए जाने वाले भोजन से मायक्रोन्यूट्रीएंड्स (Micronutrients) की 100 प्रतिशत RDA की आवश्यकताओं को पूरा करना संभव नहीं है।   
न्यूट्रीचार्ज डीएचए ट्विस्ट की जानकारी 


बच्चों के मस्तिष्क के विकास के लिए संभावित लाभकारी पोषक तत्व | Potential beneficial nutrients for children's brain development 

बच्चों के मस्तिष्क के विकास के लिए पोषक तत्व की आवश्यकता होती है और बच्चों के मस्तिष्क का विकास कम उम्र से ही होना शुरू होता है इसीलिए बच्चों को कम उम्र से ही पोषक तत्व मिलना जरुरी है क्यों की उम्र बढ़ने के साथ-साथ उनके मानसिक विकास में कोई कमी न रह जाएं इसलिय आप अपने बच्चों को न्यूट्रीचार्ज किड्स जरूर खिलाये। निचे दिए गए पोषक तत्व न्यूट्रीचार्ज किड्स में सामिल किये गए है ...... 
  • डीएचए (DHA)
  • कोलिन (Colin)
  • टीनोस्पोरा कोर्डीफोलिया (Tinospora cordifolia)
  • आयरन (Iron)
  • मैग्नीज (Manganese)
  • फॉस्फोरस (Phosphorus)
  • बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन्स (B.Complex vitamins)
  • विटामिन सी (vitamin C) 
  • आयोडीन (Iodine) 
आदि प्रकार के पोषक तत्व बच्चों के मस्तिष्क के विकास के लिए जरुरी है। 

डीएचए के संभावित लाभ | Potential Benefits of DHA

Q. 1. डीएचए महत्वपूर्ण क्यों है? (Why is DHA important?) 
Ans :- डीएचए बच्चे के मानसिक विकास और मस्तिष्क के सरंचना के लिए आवश्यक है। मस्तिष्क का विकास, सोचने-समझने की क्षमता में वृद्धि और मांसपेशियों का इस्तेमाल आदि के लिए DHA महत्वपूर्ण है। 

रोगप्रतिकारक शक्ति कैसे बढ़ती है ? | How does the immune system increase?

मायक्रोन्यूट्रीएंड्स (Micronutrients) व अन्य पोषक तत्व शारिरिक व मानसिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है व रोगप्रतिरोधक क्षमता में सुधार ला सकते है इस कारण बच्चा बार-बार बीमार नहीं पड़ेगा और स्वस्थ रहेगा। 

न्यूट्रीचार्ज वेज ओमेगा की जानकारी



बच्चों की प्रतिरक्षा प्रणाली के विकास के लिए संभावित लाभकारी पोषक तत्व आवश्यक हैं।| Potential beneficial nutrients are essential for the growth of children's immune system.
  • आयरन (Iron)
  • एल -लायसिन ( El-lysine)
  • जिंक (Zinc)
  • कॉपर (Copper)
  • सेलेनियम (Selenium)
  • विटामिन ई (Vitamin E)
  • विटामिन ए (Vitamin A)
  • विटामिन सी (Vitamin C)
  • प्रीबायोटिक्स (Prebiatics)
प्रोबायोटिक्स यह पोषकतत्व बच्चों की रोकप्रतिरोधक शक्ति बढ़ता है। 

 आपके बच्चे की ऊंचाई उम्र के अनुसार कम है? | Your child's height is low as per age?

बच्चे के समुचित विकास के लिए मैक्रो व माइक्रो-नुट्रिएंट्स (Macro and Micro-Nautrivants) का पर्याप्त सेवन आवश्यक है। इस कारण बच्चों के वजन और ऊंचाई को उनके उम्र के अनुरूप बनाये रखने में मदद होगी। 

शारिरिक विकास के लिए आवश्यक संभावित पोषक तत्व | Potential nutrients needed for physical growth  

  • प्रोटीन (Protein)
  • मैग्नीशियम (Magnesium)
  • फास्फोरस (Phosphorus)
  • एल-लायसिन ( El-lysine)
  • क्रोमियम (Chromium)
  • विटामिन डी (vitamin D)
  • कैल्शियम (Calcium)
  • पोटेशियम (Potassium)
  • मैग्नीज (Manganese)

प्री-प्रोबायोटिक्स पोषक तत्व के लाभ | Benefits of Pre-Probiotic Nutrition

एक और पोषक तत्व की बात करेंगे जिसका नाम प्री-प्रोबायोटिक्स इस पोषक तत्व के बारे में वैज्ञानि बहुत अधिक रिसर्च कर रहे है। यह पोषकतत्व बच्चों के सफलीमेन्ट में होना बहुत ही जरुरी है। 
  • प्रोबायोटिक्स कुछ लाभकारी जीवित बैक्टीरिया यानि सूक्ष्मजीवी होते है जिनके सेवन से हमें स्वास्थ लाभ मिल सकते है। 
  • इन्हे सेवन करने से हमारी आँतों में लाभकारी बैक्टीरिया का संतुलन बनाये रखने में मदद मिलती है।
  • बच्चों के पाचन प्रक्रिया को सुधरता है। 
बच्चों को अन्य सप्लीमेंट्स देने से पहले उसमे कौनसे पोषक तत्व है जरूर जाचे जैसे की , 
  • क्या इसमें प्रोटीन है? (Is there protein in it?)
  • यदि हां, तो प्रोटीन का स्रोत क्या है? If so, what is the source of protein? ( सोया, प्रोटीन, आयसोलेट, मिल्क पाउडर या आटा Soya, protein, isolate, milk powder or flour )
  • इसमें कितना प्रोटीन है ? How much protein is there in this?
  • इम्युनिटी बढ़ानेवाले बॉटनिकल्स है क्या ? Are Botanicals Enhancing Immunity?
  • मस्तिष्क विकास के लिए डीएचए है और अन्य तत्व है क्या ? Is DHA for brain development and what is the other element?  
  • अच्छे पाचन के लिए प्री-प्रोबायोटिक्स है ? Is there a pre-probiotic for good digestion?
  • ऊर्जा और स्वास्थ के लिए कितने विटामिन्स और मिनरल्स है ? How many vitamins and minerals are there for energy and health?

न्यूट्रीचार्ज किड्स | Nutricharge Kids 
च्चे टेबलेट आसानी से नहीं ले पते है इसलिए उनके लिए पाउडर के रूप में न्यूट्रीचार्ज किड्स जी की क्लिनिकली प्रूवन किड्स सप्लीमेंट्स है, उपलब्ध कराया गया है। 

न्यूट्रीचार्ज किड्स में 49 पोषक तत्वों का समावेश है जिसमे 3 प्रकार के प्रोटीन (सोया, व्हे, मिल्क) 10 बोटेनिकल्स, प्री-प्रोबायोटिक के साथ विटामिन्स और मिनरल्स डाले गए है। बच्चों के लिए मार्केट में उपलब्ध कई ब्रांड में प्रोटीन व पोषक तत्वों की मात्रा बेहद कम होती है वही न्यूट्रीचार्ज किड्स उत्तम किस्म का प्रोटीन सबसे अधिक मात्रा में बच्चों को देता है व इसमें पोषक तत्व भी सबसे अधिक मात्रा में उपलब्ध है। 

Children find it difficult to take tablets. That is why Nutricharge KIDS, a clinically proven kid's supplements especially for children has been made available.

Nutricharge KIDS has 49 nutrients, 3 types of protein (soy, whey and milk) 10 botanicals, pre-probiotics and all major vitamins and minerals. Many available brands in India have a very poor protein and nutrition content, whereas Nutricharge KIDS has best and one of the highest protein and nutrition content for kids and children.


पोषक तत्वों के संभावित लाभ | Probable Benefits of Nutrients 

प्रोटीन | Protein  

सोया, व्हे और मिल्क प्रोटीन बढ़ते बच्चों की ऊंचाई, मसल्स और शारीरिक ताकत में मददगार। 
Soy, Whey and Milk protein suppport height, muscles and weight gain among children.


प्री-प्रोबायोटिक्स, विटामिन्स एवं मिनरसल | Pre-Probioticks, Vitamins and Minerals

गट हेल्थ (पाचन), रोगों से लड़ने की क्षमता, एनर्जी और सक्रीय रखने में सहायक। 
Support gut health, immunity, energy and keep active.


बोटेनिकल्स | Botanicals 

सर्दी, खाँसी सामान्य रोजाना की बिमारियों से बचाव। 
Help cop small problems like a cough, cold and others. 


स्वाद | Flavour 

स्वादिष्ट चॉकलेट स्वाद (Delicious Chocolate Flavor) & स्वादिष्ट आम का स्वाद (Delicious Mango Flavour)

न्यूट्रीचार्ज किड्स को सेवन करने का तरीका | How to take

न्यूट्रीचार्ज किड्स को 2 से 12 साल के बच्चों को दिया जा सकता है। इसे एक स्कूप (10 grams) दूध ( 200 मि,ग्राम) में मिलाकर दीजिए स्वाद के लिए थोड़ी शक़्कर मिला लीजिए और बच्चों को दीजिए।  

न्यूट्रीचार्ज किड्स की अधिक जानकारी और खरीदने के लिए आर.सी.एम डिस्ट्रीब्यूटर से संपर्क करे या फिर nutricharge.in पर क्लिक करे .....  


यह भी जरूर पढ़े 
 RCM Business की जानकारी अपने टीम में शेअर 
 करे और आर्थिक आझादी का अभियान सफल करे  

Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.