Make future after 12th in B.Pharma | B Pharma में 12 वीं के बाद भविष्य बनाएं


B.Pharma क्या है ? (What is B.Pharma?), B.Pharma में करियर कैसे बनाएं? (How to make a career in B.Pharm?), फार्मेसी क्षेत्र में रोजगार के अवसर, बी.फार्मा फुल फॉर्म. (B.Pharma Full Form) आइयें जानें B.Pharma में 12 वी के बाद भविष्य (Future after 12th in B Pharma ?)

नमस्ते, आप सायंस के विद्यार्थी है बराबर, बारवी का रिजल्ट आया है.  12 वी Science में Physics, Chemistry, Biology के साथ अच्छे अंक के साथ पास हुए हो, बधाई ! अभी आप सोच रहे होंगे की, एडमिशन के लिए कौन से फैकल्टी का चयन किया जाय, आगे अपनी लाइफ सेटल करने के लिए क्या करे? तो आप ज्यादा मत सोचिए,  B.Pharma ( Bachelor of pharmacy) का चुनाव कीजिए और  B.Pharma में 12 वी के बाद भविष्य बनाएं  (Make future after 12th in B.Pharma ?) चलिए जानते है,  B.Pharma  चार वर्षीय डिग्री कोर्स के बारें में .........

चिकित्सा के क्षेत्र में फार्मेसी एक महत्वपूर्ण स्थान है. फार्मेसी का क्षेत्र नौकरियों के लिए बहुत अच्छा क्षेत्र है क्योंकि इस क्षेत्र में कई प्रकार की नौकरियां पाई जाती हैं. फार्मेसी का क्षेत्र दवाओं से जुड़ा हुआ है. जिसमें आपको करियर के साथ-साथ लोगों की सेवा करने का मौका मिलता है. वैसे आजकल छात्रों को करियर बनाने के लिए बहुत सारे विकल्प मिलते हैं. लेकिन चिकित्सा लाइन ऐसी है कि हमेशा बहुत से लोगों को नौकरी मिल जाती है.


  Make future after 12th in B.Pharma | B Pharma में 12 वीं के बाद भविष्य बनाएं


फार्मेसी में दो तरह के कोर्स होते हैं, बी फार्मा और डी फार्मा इन पाठ्यक्रमों को करने के बाद, छात्र अपने भविष्य को आसानी से सुरक्षित कर सकते हैं. यदि आप विज्ञान, जीवन विज्ञान और चिकित्सा में रुचि रखते हैं, तो आप आसानी से फार्मेसी के क्षेत्र में अपना भविष्य बना सकते हैं.

छात्रों को 12 वीं के बाद अपना करियर चुनने में बहुत कठिनाई होती है। लेकिन 12 वीं के बाद, छात्र बी फार्मा या डी फार्मा करके फार्मासिस्ट में अपना कैरियर बना सकते हैं. पिछले कुछ वर्षों में चिकित्सा क्षेत्र में रोजगार के बड़े अवसर आए हैं.


बी.फार्मा फुल फॉर्म. (B.Pharma Full Form)

◾ फार्मेसी से स्नातक (Bachelor of pharmacy)

बी.फार्मा क्यू करें | B. Pharma Why do

12 वीं के बाद आप बी.फार्मा करके अपना भविष्य बना सकते हैं. बी फार्मा भविष्य बनाने की कुंजी है. आप निम्नलिखित तरीकों से अपने भविष्य को एक नया आयाम दे सकते हैं.

◾ अपनी खुद की दवा कंपनी या दुकान खोलकर रोजगार शुरू किया जा सकता है.

◾  डिग्री धारकों को सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों के फार्मा विभाग में नौकरी मिलती है.

◾  दवा इकाई शुरू करने के लिए डिग्री के आधार पर लाइसेंस प्रदान किया जाता है.

◾  सरकारी और निजी कंपनियों के अनुसंधान और विकास विभाग में काम कर सकते हैं.

◾  फार्मा कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव पद पर कार्यरत.

B.Pharma की परिभाषा | Definition of B.Pharma  

फार्मेसी का दवा, ड्रग्स आदि के साथ सीधा संबंध है. फार्मेसी में दवा बनाने की विधि, कौन सी दवा किस बीमारी के लिए है, कौन सी दवा एक साथ नहीं लेनी चाहिए, ऐसे परीक्षण आदि को फार्मेसी के अंतर्गत शामिल किया जाता है.

B.Pharma  की डिग्री पूरी होने के बाद, छात्रों के पास किसी भी स्थान पर भविष्य बनाने के लिए विकल्प हैं. छात्र फार्मेसी के उच्च अध्ययन को आगे बढ़ा सकते हैं. हर साल इस क्षेत्र में फार्मा पेशेवरों की मांग बढ़ जाती है और यह चिकित्सा क्षेत्र में सबसे अच्छा क्षेत्र है.

B.Pharma  कार्यक्रम में जैव रासायनिक विज्ञान और स्वास्थ्य देखभाल आदि पाठ्यक्रम शामिल हैं। फार्मेसी क्षेत्र आपको कई कैरियर के अवसर प्रदान करता है। यदि आप फार्मेसी क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, तो आप पाठ्यक्रमों का चुनाव कर सकते हैं। ये पाठ्यक्रम डिप्लोमा, डिग्री या स्नातकोत्तर डिग्री पाठ्यक्रम हो सकते हैं।

फार्मेसी में कई कैरियर विकल्प हैं. आज, हर दिन दवा में एक नई खोज हो रही है, जिसमें फार्मेसी उद्योग क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

Bachelor of pharmacy जिसको संक्षिप्त में B.Pharma कहते है. यह कोर्स चार साल का रहता है. B.Pharma की चार साल की पढ़ाई पूरी होने के बाद आपको Bachelor of pharmacy की डिग्री मिलती है. डिग्री मिलने के बाद आप प्रैक्टिस कर सकते है. साइंस स्ट्रीम के छात्र, चाहे वे गणित से हों या जीव विज्ञान से, 12 वीं कक्षा पास करने के बाद B.Pharma के लिए पात्र हैं. दवा उद्योग में विभिन्न प्रकार के काम करने के लिए तैयार रहना पड़ता है.

यह कोर्स उन लोगों के लिए है जो दवा में रुचि रखते हैं या जैव-रासायनिक क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं. यदि आप भी इस क्षेत्र में रुचि रखते हैं, तो इस पाठ्यक्रम के माध्यम से भविष्य को उज्जवल करने के लिए निश्चित रूप से विचार करें और B Pharma में 12 वीं के बाद भविष्य बनाएं (Make future after 12th in B.Pharma)

B.Pharma  के लिए शैक्षणिक योग्यता |  B.Pharma Educational Qualification

◾जिन छात्रों ने 12 वीं साइंस (बायोलॉजी) पास की है, वे B.Pharma के लिए आवेदन कर सकते हैं.

◾कोई भी साइंस स्ट्रीम का छात्र जिसने पीसीएम या पीसीबी से 12 वीं की बोर्ड परीक्षा दी हो.

◾छात्रों को न्यूनतम 50% अंक चाहिए .

◾कुछ college में बी.फार्मा के लिए entrance exam (प्रवेश परिक्षा), group discussion एवं counselling के आधार पर भी प्रवेश निश्चित होता हैं.

◾ आप TS  EAMCET ,APEAMCET, BSECE, WBJEE आदि जैसे राज्य स्तर की परीक्षाओं के लिए भी
आवेदन कर सकते हैं.

◾प्रसिद्ध विश्वविद्यालय स्तर की परीक्षाएँ जैसे BVP CET, IPU CET, MHT-CET, आदी द्वारा प्रवेश निश्चित होता है.


कॉमन एंट्रेंस टेस्ट - Common entrance test

◾ कुछ कॉलेज में 12 वीं अंको के आधार पर प्रवेश निश्चित करते है.

◾ BHU- B pharma Entrance Exam

◾ GPAT- Graduate Pharmacy Aptitude Test

◾ GCET- Goa common Entrance Test

◾ MHT-CET- Maharashtra common Entrance Test.


कॉमन एंट्रेंस टेस्ट के लिए निम्नलिखित विषय की पढ़ाई करें .... 

◾ भौतिक विज्ञान (Physics)

◾ रसायन विज्ञानं (Chemistry)

◾ अंक शास्त्र (गणित) (Numerology (Mathematics)

◾जीवविज्ञान (Biology)

◾अंग्रेजी की क्षमता / तार्किक विचार (English ability / Logical Idea)

आदि विषयों पर प्रश्न पूछे जाते है.


बी.फार्मा पाठ्क्रम की जानकारी | B. Pharma Course Information 

बी.फार्मा अर्थात मेडिकल, मेडिकल बोलेतो मेडिसिन है. बीमारी के अनुसार दवाई तैयार करना  है. ड्रग, मेडिसिन फार्मूले कैसे बनाना आदि की पढ़ाई करना पड़ता है. तो चलिए जानते है कोर्स के बारें में .....    


◾ बी.फार्मा (Bachelor of pharmacy) यह चार साल का कोर्स है.


पहला साल- First Year

◾ औषधि विश्लेषण १ (Pharmaceutical Analysis 1)

◾ दवा रसायन (Pharmaceutical Chemistry)

◾ उन्नत गणित (Advanced Mathematics)

◾ कंप्यूटर अनुप्रयोग (Computer Applications)

◾ जीवविज्ञान (Biology)

◾ एनाटॉमी और फिजियोलॉजी (Anatomy & Physiology)

◾ कार्बनिक रसायन (Organic Chemistry)

◾ फार्माकोग्नॉसी १ (Pharmacognosy 1)

◾ बुनियादी इलेक्ट्रॉनिक्स (Basic Electronics)


द्वितीय वर्ष-second year 

◾ फार्माकोग्नॉसी २ (Pharmacognosy 2)

◾ औषधि रसायन शास्त्र २ (Pharmaceutical Chemistry 2)

◾ औषध बनाने की विद्या (Pharmaceutics)

◾ औषधि विश्लेषण २ (Pharmaceutical Analysis 2)

◾ एपी एचई -1 (AP HE-1)

◾ कार्बनिक रसायन 2 (Organic Chemistry 2)

◾ फार्माकोग्नॉसी 3 (Pharmacognosy 3)

◾  एपी एचई- 2 (AP HE- 2)

◾ वितरण और सामुदायिक फार्मेसी (Dispensing & Community Pharmacy)


तीसरा वर्ष - Third year

◾ जीव रसायन (Biochemistry)

◾ औषधि विज्ञान २ (Pharmacology 2)

◾ औषधीय रसायन शास्त्र १ (Medicinal Chemistry 1)

◾ फार्मास्युटिकल न्यायशास्त्र नैतिकता (Pharmaceutical Jurisprudence Ethics)

◾ प्राकृतिक उत्पादों के रसायन विज्ञान (Chemistry of Natural Products)

◾ औषधीय रसायन विज्ञान २ (Medicinal Chemistry 2)

◾ औषधि विज्ञान १ (Pharmacology 1)

◾ अस्पताल के फार्मेसी (Hospital Pharmacy)

◾ जैव औषध विज्ञान (Biopharmaceutics)


चौथा वर्ष - Fourth year

◾ फार्मास्युटिकल जैव प्रौद्योगिकी (Pharmaceutical Biotechnology)

◾औषध बनाने की विद्या (Pharmaceutics)

◾औषधीय रसायन विज्ञान ३ (Medicinal Chemistry 3)

◾ ऐच्छिक (Electives)

◾ रोग विष्यक औषधालय (Clinical Pharmacy)

◾ प्राकृतिक उत्पादों के रसायन विज्ञान (Chemistry of Natural Products)

◾ वैकल्पिक से संबंधित (Projected Related to Elective)

◾ फार्माकोग्नॉसी (Pharmacognosy)

◾ दवाओं का पारस्परिक प्रभाव (Drug Interactions)

आदि विषयों में B.Pharma के लिए पढ़ाई करनी होती है.



B Pharma के बाद क्या करे | What to do after B Pharma

◾ इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप डिग्री होल्डर बन जाते हो अर्थात आपको   'बैचलर ऑफ फार्मेसी' (Bachelor of pharmacy) की डिग्री मिल जाती है.

◾ फार्मेसी अधिनियम 1940 के तहत, राज्य फार्मेसी परिषद में अपना पंजीकरण कराना होगा.

◾ B Pharma के बाद आप, Masters in Pharmacy (M.Pharma) 2 साल का पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स कर सकते है.

◾ आप Pharmaceutical company में विनिर्माण (Manufacturing), उत्पाद कार्यकारी (Products executive),  गुणवत्ता नियंत्रण (Quality control), समन्वयक (Coordinator) आदि पद के लिए जॉब कर सकते है.

◾ अपनी खुद की दवा कंपनी या दुकान खोलकर रोजगार शुरू किया जा सकता है.

◾ बैचलर ऑफ फार्मेसी कोर्स करने के बाद, छात्रों कोफार्मासिस्ट, रिसर्च ऑफिसर एवं साइंटिस्ट, मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव, मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव जगहों पर आसानी से नौकरी मिल जाती है क्योंकि इस क्षेत्र में बहुत अच्छे जॉब स्कोप हैं.

◾अस्पताल की फार्मेसी (Hospital pharmacy)

◾रोग विष्यक औषधालय (Clinical pharmacy)

◾तकनीकी फार्मेसी (Technical pharmacy)

◾अनुसंधान एजेंसियों (Research agencies)

◾मेडिकल डिस्पेंसिंग स्टोर (Medical Dispensing Store)

◾बिक्री और विपणन विभाग (Sales and Marketing Department)

◾शैक्षिक संस्थान (Educational Institutes)

◾स्वास्थ्य केंद्र (Health centers)

◾ स्कूल और कॉलेज प्रयोगशालाएं (School and College Laboratories)


फीस | Fees

◾ सरकारी और निजी कॉलेज की फीस कॉलेज के अनुसार रहती है.


सैलरी | Salary

◾ अनुभव के बाद लाखों के उपरही रहती है.


B.Pharma कोर्स करने के लिए टॉप कॉलेज | Top colleges to pursue B.Pharma course 

◾ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी – (BHU IIT), वाराणसी

◾मद्रास मेडिकल कॉलेज – (MMC), चेन्नई

◾यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंसेज, चंडीगढ़

◾मनिपाल कॉलेज ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंसेज, मनिपाल

◾इंस्टिट्यूट ऑफ़ केमिकल टेक्नोलॉजी – (ICT), मुम्बई

◾जेएसएस कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी, द नीलगिरिस, तमिल नाडु

◾एलऍम कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी – (LMCP), अहमदाबद

◾गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी – (GGSIPU), न्यू दिल्ली

◾पूना कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी, पुणे

◾एएल – अमीन कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी, बैंगलोर

◾गोवा कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी – गोवा

◾ इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी, बुंदेलखंड विश्वविद्यालय

◾डिपार्टमेंट ऑफ फार्मास्युटिकल साइंसेज, सैम हिग्गिनबॉटम इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर, टेक्नोलॉजी एंड साइंसेज, इलाहाबाद

◾दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ फर्मास्यूटिकल साइंसेज एंड रिसर्च, दिल्ली विश्वविद्यालय

◾डिपार्टमेंट ऑफ फार्मेसी, पं. बीडी शर्मा पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, रोहतक

◾ Indian Institute of Technology - (BHU IIT), Varanas)

◾ Madras Medical College - (MMC), Chennai

◾ University Institute of Pharmaceutical Sciences, Chandigarh

◾ Manipal College of Pharmaceutical Sciences, Manipal

◾ Institute of Chemical Technology - (ICT), Mumbai

◾ JSS College of Pharmacy, The Nilgiris, Tamil Nadu

◾ Alam College of Pharmacy - (LMCP), Ahmadabad

◾ Guru Gobind Singh Indraprastha University - (GGSIPU), New Delhi

◾ Poona College of Pharmacy, Pune

◾ AL - Amin College of Pharmacy, Bangalore

◾  Goa College of Pharmacy - Goa

◾ Institute of Pharmacy, Bundelkhand University

◾ Department of Pharmaceutical Sciences, Sam Higginbottom Institute of Agriculture, Technology and Sciences, Allahabad

◾ Delhi Institute of Pharmaceutical Sciences and Research, University of Delhi

◾ Department of Pharmacy, Pt BD Sharma Postgraduate Institute of Medical Sciences, Rohtak

इस तरह से आप कॉलेज में प्रवेश कर के Make future after 12th in B.Pharma .

यह भी पढ़े :
◾ एनिमेशन डिजायनर में भविष्य बनाएं       
 संचार में भविष्य बनाएं
 पांच सितारा और सात सितारा में भविष्य बनाएं
◾ बी एस सी नर्सिंग में भविष्य बनाएं 
◾ ANM में 12 वि के बाद भविष्य बनाएं 
◾ GNM में 12 वी के बाद भविष्य बनाएं 
◾ डी फार्मा में 12 वीं के बाद भविष्य बनाएं 

Postscript : अनुलेख

Post Name : B Pharma में 12 वीं के बाद भविष्य बनाएं. (Make future after 12th in B.Pharma)

Description : फार्मासिस्ट बनकर ड्रग्स बेचने के पेशे को स्वरोजगार का बेहतर विकल्प माना जा सकता है। हमने इस पेशे में प्रवेश करने के लिए आवश्यक योग्यता और अन्य संभावनाओं पर प्रकाश डालने की कोशिश की है। इसके अनुसार आप अपने स्वरोजगार का रास्ता चुन सकते हैं.

Publish : www.pravingyan.com 

Author : शीतल 

Tags :  Make future after 12th in B.Pharma, GNM, ANM, B.Sc. Nursing

Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.