How to do B.Sc in Dietetics and Nutrition after 12th? | 12 वीं के बाद डायटेटिक्स एंड न्यूट्रिशन में बीएससी कैसे करें?

डायटेटिक्स कैसे बनें ? (How to become dietetics), डायटेटिक्स एंड न्यूट्रीशन B.Sc में भविष्य बनाएं (Create a future in Dietetics and Nutrition B.Sc)   डायटीशियन में करियर कैसे बनाएं? (How to make a career in dietician?) आइयें जाने 12 वीं के बाद डायटेटिक्स एंड न्यूट्रिशन में बीएससी कैसे करें? (How to do B.Sc in Dietetics and Nutrition after 12th?)

डायटेटिक्स में पढ़ाई की तलाश करते समय, छात्र अक्सर पोषण शब्द को लेकर भ्रमित रहते हैं. हालांकि, आहार और पोषण समान हैं लेकिन दो अलग-अलग पेशे हैं. डायटेटिक्स एक रोगी के आहार की उचित योजना, निगरानी और पर्यवेक्षण के माध्यम से खाद्य प्रबंधन पर ध्यान केंद्रित करता है. दूसरी ओर, पोषण स्वास्थ्य और भोजन के विकल्पों पर लोगों को सलाह देकर स्वास्थ्य के समग्र संवर्धन से संबंधित है.


How to do B.Sc in Dietetics and Nutrition after 12th?



केवल आहार विशेषज्ञ आपको बता सकते हैं कि किस शरीर के लिए कितनी मात्रा में खाना चाहिए. इन दिनों डायटीशियन की भूमिका बढ़ती जा रही है. आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपने खान-पान का ध्यान रखने के लिए आहार विशेषज्ञ की मदद ले रहे हैं.

भोजन में क्या है, हमारे शरीर में कौन से विटामिन की आवश्यकता है, हमें किस तरह के भोजन से बचना चाहिए ताकि हम बीमार न हों, केवल एक आहार विशेषज्ञ आपको बता सकता है. हर शरीर का अपना गुण होता है, अगर उसके अनुसार भोजन न किया जाए तो शरीर बीमारियों का घर बनने लगता है. इतना ही नहीं, उम्र की शुरुआत के साथ, कई बीमारियां शरीर को घेरने के लिए तैयार हैं. ऐसी स्थिति में, आहार विशेषज्ञ आपको सही भोजन और पेय देकर बुढ़ापे में होने वाली बीमारियों से छुटकारा पाने में मदद कर सकते हैं. तो चलिए जानते है,12 वीं के बाद डायटेटिक्स एंड न्यूट्रिशन में बीएससी कैसे करें? (How to do B.Sc in Dietetics and Nutrition after 12th?)

आहार विशेषज्ञ की परिभाषा | Definition of dietician

 डायटीशियन को हिंदी में आहार विशेषज्ञ कहते है. यह अपने ग्राहकों को आहार संबंधी सलाह देते है. अर्थात आहार संबंधित जाँच और उनका मूल्यांकन करते है. लोगों के आहार एंव पोषण के विभिन्न सिद्धांतों के अनुसार संतुलित आहार लेकने की सलाह देते है. डायटीशियन आहार और पोषण को प्रतिबंधित करने के लिए विज्ञान के माध्यम से अच्छी जीवन शैली जीने की सलाह देकर जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाते है. उम्र, मेडिकल स्थिति और काम के रूटीन के आधार पर सलाह देते है.

खानपान जीवन का अभिन्न अंग है. सभी आयु वर्ग के लोग इसमें रुचि रखते हैं. यह एक ऐसा क्षेत्र है जो लगातार लोगों को आकर्षित करता है और इससे जुड़े उद्योग भी चलते रहते हैं. यदि आप इस क्षेत्र में अपना करियर बनाते हैं, तो यह आपके लिए एक आकर्षक कैरियर साबित हो सकता है.

संतुलित आहार के महत्व से हर कोई वाकिफ है, लेकिन ज्यादातर लोग इस बात को लेकर भ्रमित होते हैं कि आहार उनकी उम्र, शारीरिक क्षमता, काम करने की प्रकृति और दिनचर्या के अनुसार कैसा होना चाहिए। आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ सही आहार से संबंधित हमारी शंकाओं को दूर करते हैं। यदि आप एक स्वस्थ जीवन शैली के साथ एक रोमांचक कैरियर चाहते हैं, तो यह क्षेत्र आपके लिए बहुत अच्छा है।

हमारी जीवनशैली पूरी तरह से बदल गई है. आज हम एक फास्टट्रैक लाइफस्टाइल जी रहे हैं, जिसमें तुरंत सब कुछ करना एक आदत बन गई है. तेजी से भागती जिंदगी में हम अपने खाने पर ध्यान नहीं दे पाते हैं, जिसकी वजह से हमें कई समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है. फास्ट और जंक फूड खाने से मोटापा और कई अन्य बीमारियां होती हैं. इस कारण से, वर्तमान में स्वस्थ रहना सबसे महत्वपूर्ण है और इस कार्य में आहार विशेषज्ञ की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है.

कार्यक्रम में आहार विशेषज्ञ की जरूरत होती है. इसके अलावा, चैनलों द्वारा खाद्य उत्सव भी आयोजित किए जाते हैं. इन त्योहारों में विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ रखे जाते हैं, साथ ही कितनी कैलोरी होती है और उनके स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है, इसकी भी जानकारी दी जाती है और यह जानकारी आहार विशेषज्ञ द्वारा ही दी जाती है. आज, स्टार शेफ किसी भी फाइव स्टार होटल में डायटीशियन को भी नियुक्त करते हैं, ताकि वे होटल में आने वाले ग्राहक को विशेष व्यंजनों के बारे में सभी प्रकार की जानकारी दे सकें. इस कारण रोजगार के बढ़ते अवसर है इसलिए जानते है की, 12 वीं के बाद डायटेटिक्स एंड न्यूट्रिशन में बीएससी कैसे करें? (How to do B.Sc in Dietetics and Nutrition after 12th?)

आहार विशेषज्ञ की तैयारी कैसे करें? | How to prepare for dietician?

डायटीशियन बनने के लिए दसवीं के बाद 11, 12 वी साइंस में PCB का चुनाव करना चाहिए. 12 वी में अधिक अंक लाना चाहिए क्यों की कुछ संस्था अंक के आधार पर एडमिशन लेते है. 

आहार विशेषज्ञ की डिग्री | Dietician degree

डायटीशियन  डिग्री कालावधी तीन साल की अवधि का है.आप निम्न लिखित एक डिग्री कोर्स को चुन के डायटीशियन बन सकते है. 


◾ B.Sc. in Clinical Nutrition
◾ B.Sc. in Nutrition and Dietetics
◾ B.Sc. in Food Science and Nutrition
◾ B.Sc. in Applied Nutrition
◾ B.Sc. in Dietetics
◾ B.Sc. in Home Science (Nutrition and Food Science specialization)


डायटेटिक्स एंड न्यूट्रीशन बनने के लिए शैक्षिक योग्यता | Educational qualification to become Dietetics & Nutrition

 आहार विशेषज्ञ बनने के लिए 12वीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी में 50%, 60% के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए.

◾ डायटेटिक्स एंड न्यूट्रीशन में डिप्लोमा और फूड साइंस एंड पब्लिक हेल्थ न्यूट्रिशन में डिप्लोमा भी किया जा सकता है.

 ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद आप इन्हीं विषयों में एमएससी कर सकते हैं. इस क्षेत्र में रिसर्च का भी काफी स्कोप है. हायर स्टडीज करने वाले विद्यार्थियों को इस क्षेत्र में अवसर भी बहुत मिलते हैं.


आहार विशेषज्ञ पाठ्यक्रम की जानकारी |  Dietician Course Information

B.Sc in Dietetics and Nutrition कोर्स 3 साल का रहता है. तीन वर्षीय पाठ्यक्रम में, निम्नलिखित विषयों को पढ़ाया जाता है.

◾ व्यावहारिक विज्ञान Basics in Human Anatomy

◾ मानव शरीर रचना विज्ञान में मूल बातें Environmental Studies

◾ परिवार भोजन प्रबंधन  Family Meal Management

◾ विकृति विज्ञान Pathology

खाद्य और पोषण के मूल तत्व Fundamentals of Foods & Nutrition

◾ जैव रसायन विज्ञान के मूल तत्व Fundamentals of Biochemistry

◾ शरीर क्रिया विज्ञान Physiology

◾ पोषण जैव रसायन Nutritional Biochemistry

◾ जीवनचक्र के माध्यम से पोषण Nutrition through Lifecycle

◾ नैदानिक ​​मनोविज्ञान Clinical Psychology

◾ चिकित्सीय पोषण और आहार विज्ञान Therapeutic Nutrition & Dietetics

◾ मानव पोषण में समस्याएं Problems in Human Nutrition

◾ स्वास्थ्य, स्वास्थ्य और खेल के लिए पोषण Nutrition for Health, Fitness and Sports

◾ सामुदायिक पोषण Community Nutrition

◾ फूड माइक्रोबायोलॉजी Food Microbiology

◾ संस्थागत खाद्य प्रशासन Institutional Food Administration

◾ भोजन विज्ञान Food Science

◾ खाद्य प्रसंस्करण और प्रौद्योगिकी Food Processing and Technology

◾ भारतीय परंपरा में खाद्य पदार्थ Foods in Indian Tradition

◾ प्राथमिक चिकित्सा और नर्सिंग First Aid & Nursing

◾ जड़ी बूटी और घरेलू उपचार Herbs and Home Remedies

मातृ और बाल पोषण Maternal and Child Nutrition

◾ पोषण लेबलिंग Nutrition Labeling

◾ सामुदायिक विकास परियोजना Community Development Project

◾ उद्यमिता शिक्षा और पत्रकारिता Entrepreneurial Education & Journalism

◾ आहार और पोषण परामर्श Diet and Nutrition Counseling

◾ किण्वन प्रौद्योगिकी समग्र कल्याण और जीवन कौशल Fermentation Technology Holistic Wellness and Life Skills

◾ स्वास्थ्य देखभाल और अस्पताल प्रबंधन Health care and Hospital management

◾ सामाजिक और निवारक दवा  Social and preventive medicine

◾ खाद्य स्वच्छता और स्वच्छता Food Hygiene & Sanitation

◾ मानव विकास Human Development

◾ विस्तार शिक्षा की गतिशीलता Dynamics of Extension Education

◾ खाद्य प्रसंस्करण में एंजाइम Enzymes in Food processing

◾ खाद्य संरक्षण और बेकरी Food Preservation and Bakery

◾ खाद्य हैंडलिंग और पैकेजिंग  Food Handling & Packaging

Fundamentals of Statistics

◾ सूचना प्रौद्योगिकी का परिचय Introduction to Information technology

Health Communication

◾ स्वास्थ्य संचार Culinary Science

◾ पाक विज्ञान Health Psychology


◾ स्वास्थ्य मनोविज्ञान Weight Management



प्रवेश परीक्षा | Entrance examinations

◾  डायटीशियन के लिए बी.एससी में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा देनी होती है. कुछ संस्थान प्रवेश परीक्षा के बिना प्रवेश देते हैं.


डायटेटिक्स के लिए कौशल | Skills for dietetics 

◾ सभी प्रकार के खाने-पीने के बारे में गहन ज्ञान रखना पड़ता है. यह जानकारी तभी उपलब्ध होगी जब आपके पास शोध करने की क्षमता होगी. शोध के अलावा, प्रभावी संचार कौशल भी होना चाहिए.


वेतन | Salary

पोषण और आहार विज्ञान एक परिष्कृत कैरियर विकल्प है. इस क्षेत्र में शामिल पेशेवर समाज के संपन्न वर्ग के हैं. इसलिए कमाई की कोई सीमा नहीं है. एक प्रशिक्षु के रूप में निजी अस्पतालों में काम करने वालों को प्रति माह 15,000 रुपये का प्रारंभिक वेतन मिल सकता है और एक वर्ष या उससे अधिक का अनुभव प्राप्त करने के बाद वेतन रु 30,000 तक जा सकती है. अनुसंधान क्षेत्र, शिक्षण या खाद्य निर्माण इकाइयों में काम करने वाले पेशेवर अन्य वेतन और लाभों के साथ अधिक वेतन कमाते हैं. हालांकि, निजी व्यवहार में सलाहकार आहार विशेषज्ञ अपने कौशल और प्रतिष्ठा के आधार पर बहुत कुछ कमाते हैं.


अनंतिम पंजीकरण | Provisional registration

◾ B.Sc in Dietetics and Nutrition कोर्स पूरा होने के बाद भारतीय चिकित्सा परिषद (Medical council of india) में अनंतिम प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करना होगा. आवेदन के साथ एक हजार रु. (प्रमाण पात्र शुल्क) और मान्यता प्राप्त संस्था का पास किया हुआ प्रमाण पत्र जमा कराना होता है.


भारतीय आहार विशेषज्ञ में पंजीकरण करें | Register in Indian dietician 

◾ भारतीय डायटेटिक एसोसिएशन द्वारा प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की जाने के बाद आपका भारतीय आहार विशेषज्ञ में पंजीकरण होता है.


डाइटीशियन क्षेत्र में नौकरी के अवसर | Job opportunities in the Dietician area

◾  नैदानिक ​​आहार विशेषज्ञ Clinical dietitians

सामुदायिक आहार विशेषज्ञ Community dietitians

◾ प्रबंधन आहार विशेषज्ञ Management dietitians

◾ सलाहकार आहार विशेषज्ञ Consultant dietitians

◾ खाद्य सेवा आहार विशेषज्ञ Food service dietitians

◾ जेरोन्टोलॉजिकल आहार विशेषज्ञ Gerontological dietitians

◾ बाल आहार विशेषज्ञ Pediatric dietitians

◾ व्यवसाय आहार विशेषज्ञ Business dietitians

◾ प्रशासनिक आहार विशेषज्ञ Administrative dietitians

◾ आहार सहायक Dietetic assistant


आहार विशेषज्ञ के लिए विश्वविद्यालय | University for dietician














यह भी पढ़े :
◾ एनिमेशन डिजायनर में भविष्य बनाएं       
 संचार में भविष्य बनाएं

Postscript : अनुलेख

Post Name : 12 वीं के बाद डायटेटिक्स एंड न्यूट्रिशन में बीएससी कैसे करें? (How to do B.Sc in Dietetics and Nutrition after 12th? )

Description : पोषण विशेषज्ञ और आहार विशेषज्ञ स्वास्थ्य पेशेवर हैं जो लोगों के लिए आहार बनाते हैं. रोगियों को स्वस्थ भोजन के बारे में सिखाना एक प्राथमिक कर्तव्य है, साथ ही चिकित्सा और पोषण में विकास के बारे में जागरूक होना. हालांकि, आहार और पोषण में अंतर है: आहार विज्ञान खाद्य प्रबंधन पर केंद्रित है, जबकि पोषण स्वस्थ भोजन के माध्यम से स्वास्थ्य को बढ़ावा देने पर केंद्रित है.

Author : अमित 

Tags :  12 वीं के बाद डायटेटिक्स एंड न्यूट्रिशन में बीएससी कैसे करें?डायटेटिक्स कैसे बनेंन्यूट्रीशन B.Sc में भविष्य बनाएं
                    
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.