Optometry में BSc कैसे करें?

अब तक हमने शायद केवल आंखों के शस्र-चिकित्सक के बारे में सुना है, लेकिन अब 'आई केयर' या ऑप्टोमेट्री के कोर्स भी हैं और इन्हें पूरा करके आप अपना खुद का रोजगार शुरू कर सकते हैं. तो चलिए जानते है, ऑप्टोमेट्री के  बारे में ..... (Till now we have probably only heard about the eye doctor, but now there are also 'eye care' or optometry courses and by completing these you can start your own employment. So let's know about optometry.) 


Optometry में BSc कैसे करें?

आज के टेक्नीकल युग में आंखों की समस्याएं तेजी से बढ़ रही  हैं. बढे या छोटे बच्चों को चश्मा लगाना ही पड़ता है.ऐसे में ऑप्टोमेट्रिस्ट की देखभाल करने की मांग बढ़ गई है. ऑप्टोमेट्री से संबंधित पाठ्यक्रम कई कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में उपलब्ध हैं.

बीएससी ऑप्टोमेट्री कोर्स योग्य उम्मीदवारों को लेंस और अन्य ऑप्टिकल एड्स का उपयोग करके दृश्य प्रणाली के रोगों और विकारों की जांच, निदान, उपचार और प्रबंधन के लिए नैदानिक ​​कौशल और ज्ञान की एक विस्तृत श्रृंखला की पेशकश विज़ुअल स्क्रीनिंग, दृश्य समस्याओं के निदान, ऑर्थोटिक्स और विज़न ट्रेनिंग, आंशिक दृष्टि, रंग अंधापन और वंशानुगत दृष्टि दोष, और चश्मा, कॉन्टेक्ट लेंस के डिजाइन और फिटिंग के साथ रोगियों की ऑप्टोमेट्रिक परामर्श के बारे में शिक्षित करने के लिए  यह पाठ्यक्रम डिज़ाइन किया गया है.

यह भी पढ़े :
◾ 12 वीं के बाद एक्स रे तकनीक में डिफ्लोमा 
 B.A.S.L.P में 12 वीं के बाद भविष्य बनाएं 

मिलावट, प्रदूषण और अनुकरणुलित खान-पान के कारण आँखों की समस्याएं बढ़ रही हैं. आँखों की देखभाल के लिए लोग मेडिकल तकनीक का सहारा ले रहे हैं, जैसे, सामान्य चिकित्सक के अलावा, इस क्षेत्र में एक नई विशेषज्ञ भूमिका उभर रही है, जो आंख को आंख और चश्मा या लेंस लगाती है, ऑप्टोमेट्रिस्ट के क्षेत्र में दिनों दिन रोजगार के अवसर उपलब्ध हो रहे है. तो इस लेख में पढ़ते है, Optometry में BSc कैसे करें?


पाठ्यक्रम का मुख्य उद्देश्य अभ्यर्थियों को सफलतापूर्वक संचालन के लिए तैयार करना, और अनुशासन में उन्नत अनुसंधान को आगे बढ़ाने के लिए दृष्टि देखभाल विभाग में योगदान करना है. आइए, जानते हैं कि इस कोर्स में प्रवेश कैसे लिया जा सकता है और कोर्स पूरा करने के बाद किस तरह की रोजगार की संभावनाएं हैं.

ऑप्टोमेट्री की परिभाषा | Definition of optometry 

ऑप्टोमेट्री के छात्रों को स्वास्थ्य और बीमारी में मानव आंख की विस्तृत जानकारी और समझ प्राप्त करनी चाहिए, साथ ही आंख की जांच, आपूर्ति और फिट ऑप्टिकल उपकरणों की जांच करनी चाहिए, और नेत्र संबंधी स्थितियों का निदान और प्रबंधन करना चाहिए.
  • ऑप्टोमेट्री एक हेल्थकेयर पेशा है जो मानव दृश्य प्रणाली की परीक्षा, निदान और उपचार से संबंधित है.
  • उम्र बढ़ने की आबादी में, आंखों की देखभाल करने के लिए अच्छे ऑप्टोमेट्रिस्ट की आवश्यकता होती है. इस लिए इस पाठ्यक्रम का अध्ययन करना चाहिए.
  • पाठ्यक्रम दोनों मौलिक शैक्षणिक विज्ञान के साथ-साथ विस्तृत नैदानिक ​​और व्यावहारिक अध्ययन पर आधारित है. रोगियों के लिए ऑप्टोमेट्रिक सेवा पर बहुत जोर दिया गया है.
  • आप विश्वविद्यालय के स्वयं के नेत्र क्लिनिक में रोगियों को देखेंगे, और स्थानीय अस्पतालों में भाग लेंगे जहां आपको वरिष्ठ नेत्र रोग विशेषज्ञों द्वारा नेत्र विज्ञान की मान्यता और प्रबंधन में निर्देश दिया जाता है.
Optometry में बीएससी यह तीन साल का पाठ्यक्रम आपको पंजीकृत ऑप्टोमेट्रिस्ट के रूप में अभ्यास करने की दिशा में प्रगति करने में सक्षम बनाता है.

यह भी पढ़े :

शैक्षणिक योग्यता | Educational Qualifications

  • 12 वीं साइंस के छात्र संबंधित ऑप्टोमेट्री से संबंधित पाठ्यक्रमों में प्रवेश ले सकते हैं.
  • बैचलर डिग्री और बी.एससी कोर्स के लिए बारहवीं में कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स या बायोलॉजी और अंग्रेजी में पास होना जरूरी है.
  • डिप्लोमा कोर्स के लिए उम्मीदवारों को बारहवीं उत्तीर्ण होना चाहिए, जिन्होंने क्लिनिकल ऑप्टोमेट्री में डिप्लोमा कोर्स किया है, वे ऑप्टोमेट्री के बैचलर डिग्री कोर्स के तीसरे वर्ष में सीधे प्रवेश ले सकते हैं.
  • डिप्लोमा कोर्स दो साल का होता है.
बीएससी ऑप्टोमेट्री टर्म | BSc Optometry Term 
  • बैचलर डिग्री में तीन साल की पढ़ाई और एक साल की इंटर्नशिप होती है. इंटर्नशिप के तहत, छात्रों को एक क्लिनिक या अस्पताल में एक नेत्र चिकित्सक के अधीन काम करना पड़ता है.

प्रवेश परीक्षा | Entrance examinations

बीएससी में प्रवेश के लिए छात्रों को प्रवेश परीक्षा देनी होती है इस आधार पर योग्य उम्मीदवारों को ऑप्टोमेट्री पाठ्यक्रम प्रदान किया जाता है, जो संबंधित महाविद्यालय या राज्य या राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित कि जाती है. एक कट-ऑफ स्कोर परीक्षा के लिए निर्धारित किया जाता है और परीक्षा पास करने वाले छात्र काउंसलिंग प्रक्रिया के लिए पात्र होते हैं.

काउंसलिंग प्रक्रिया में समूह चर्चा और व्यक्तिगत साक्षात्कार होता है, जिसमें पाठ्यक्रम के लिए उम्मीदवार की सामान्य क्षमता की जांच की जाती है, और योग्य छात्रों की जगह निश्चित की जाती हैं.

Optometry में BSc करने के लिए निम्नलिखित प्रवेश परीक्षा 
  • AIIMS (All India Institute of Medical Sciences) Entrance Test
  • JNU (Jawaharlal Nehru University) Combined Entrance Examination
  • DU (University of Delhi) Biotechnology Entrance Examination
  • CMC (Christian Medical College) Entrance Examination
  • NEET-UG (National Eligibility-cum-Entrance Test for Under Graduate)


बीएससी ऑप्टोमेट्री कोर्स | BSc Optometry Course

Semester I
  • मूल लेखा (Basic Accountancy)
  • नैदानिक ​​मनोविज्ञान (Clinical Psychology)
  • सामुदायिक और व्यावसायिक ऑप्टोमेट्री (Community and Occupational Optometry)
  • बाल चिकित्सा ऑप्टोमेट्री (Pediatric Optometry)
  • कंप्यूटर मूल बातें (Computer Basics)
Semester II
  • संपर्क लेंस(Contact Lens)
  • कार्यात्मक अंग्रेजी और संचार(Functional English and Communication)
  • जराचिकित्सा ऑप्टोमेट्री और बाल चिकित्सा ऑप्टोमेट्री (Geriatric Optometry and Pediatric Optometry)
  • जनरल बायोकैमिस्ट्री और ओकुलर बायोकैमिस्ट्री (General Biochemistry & Ocular Biochemistry)
Semester III
  • जनरल फिजियोलॉजी और ओकुलर फिजियोलॉजी (General Physiology and Ocular Physiology)
  • जनरल एनाटॉमी और ओकुलर एनाटॉमी (General Anatomy and Ocular Anatomy)
  • ज्यामितीय प्रकाशिकी (Geometrical Optics)
  • अस्पताल की प्रक्रियाएं (Hospital Procedures)
Semester IV
  • कानून और ऑप्टोमेट्री (Law and Optometry)
  • कम दृष्टि एड्स (Low Vision Aids)
  • गणित (Mathematics)
  • पोषण (Nutrition)


ऑप्टोमेट्रिस्ट के कार्य | Optometrist work

  • आंखों की देखभाल और आंखों की जांच
  • उपकरण रखरखाव
  • कलर ब्लाइंडनेस
  • दूर और नजदीक की कम रोशनी
  • मायोपिया
  • जेनेटिक प्रॉब्लम्स का इलाज
जॉब \ करियर 
  • स्वयं की प्रैक्टिस
  • ऑप्थोमोलिस्ट के रुप में किसी शोरूम,आई हास्पिटल में काम कर सकते हैं.
  • ऑप्टिकल लेंस मैन्युफैक्चरिंग यूनिट
  • प्रोफेशनल्स कॉन्टैक्ट लेंस, लेंस इंडस्ट्री
  • कॉर्पोरेट क्षेत्र में आंखों से संबंधित उत्पाद बनाने वाली कंपनी में पेशेवर सेवा कार्यकारी
  • ऑप्टिकल दुकान

सैलरी | pay packet

  • सुरवात में 20000 से 25000 रु. प्रतिमाह 
  • अनुभव आने पर पेमेंट में बढोतरी होती है.
  • सरकारी अस्पताल में लाखों के ऊपर 
कॉलेज | College
  • रामजस कॉलेज नई दिल्ली
  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) नई दिल्ली
  • एसटी. जेवियर्स कॉलेज मुंबई
  • सुरेश ज्ञान विहार इंस्टिट्यूट जयपुर
  • ऑक्सफोर्ड कॉलेज ऑफ साइंस बैंगलोर
  • मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज (एमसीसी) चेन्नई
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी बैंगलोर
  • स्टेला मैरिस कॉलेज चेन्नई
  • फर्ग्यूसन कॉलेज पुणे
यह भी पढ़े :
Postscript: अनुलेख

Post Name: Optometry में BSc कैसे करें?

Description : साइंस में 12 वीं पास कर चुके छात्र इस कोर्स को कर सकते हैं. इस कोर्स में आंखों की देखभाल से संबंधित विषय पढ़ाए जाते हैं. इसके अलावा, चश्मे के प्रकार, संपर्क लेंस को उपभोक्ता को सलाह दी जाती है और कम-दृष्टि वाले उपकरणों और दृष्टि चिकित्सा, नेत्र व्यायाम आदि पर प्रशिक्षण दिया जाता है.

Author: शीतल

Tags: Optometry में BSc, How to make a career in Optometry?, Future in optometry, Employment in optometry

Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.