medical doctor (MD) kaise bane? मेडिकल डॉक्टर (एमडी) कैसे बनें?


MD कोर्स कैसे करें (md course kaise kare), आयुर्विज्ञान चिकित्सक कैसे बने?( aayurvigyan chikitsak kaise bane?) वैद्यकीय डॉक्टर कैसे बने? (Vaidyakīy doctor kaisē banē) आइये जानें medical doctor (MD) kaise bane? मेडिकल डॉक्टर (एमडी) कैसे बनें?


मनुष्य जीवन बहुत ही सुन्दर है.  इसे और सुन्दर बनाने के लिए अर्थात मनुष्य के जीवन में उद्देश्य, स्वप्न, अच्छे मुकाम हासिल करने की जिज्ञाशा रहती है. उद्देश्यों को जीवन में उतारने के लिए हमें पढ़ाई करके हम अपनी मंजिल तक पहुँच सकते है. सभी का पचपन का सपना डॉक्टर (doctor) बनने का रहता है लेकिन यह किसी को पता नहीं रहता है. जब हम छोटे रहते है तो डॉक्टर doctor के तरफ हमारे पेरेंट्स लेके जाते है. तभी वे कहते है की तू भी बड़ा होकर के डॉक्टर (doctor) बनेगा और लोगों को इंजेक्शन देगा'' इस तरह बचपन में बोला गया शब्द साकार करने का समय आ गया है. आप बढे हो गए हो, बचपन का देखा गया सपना सच करने के लिए medical doctor (MD) kaise bane? मेडिकल डॉक्टर (एमडी) कैसे बनें?-How to become an MD?) यह आर्टिकल पढ़िए और अपने परिवार के सपने साकार कीजिए.


medical doctor (MD) kaise bane?


यह भी पढ़े:




प्रस्तावना: Preface

MD मेडिकल की  डिग्री है इसे उच्चतम स्थान है. MD की डिग्री प्राप्त करने के लिए परेंडस ने अपने बच्चों को 8 वी क्लास से ही तैयारी करना चाहिए. क्यों की बच्चा 10 वीं में अच्छे अंक के साथ पास होना चाहिए उसके बाद आपको 11वी में फिजिक्स, केमेस्ट्री, बॉयोलॉजी की मन लगाके पढ़ाई करना है क्यों की 12 वीं में भी फिजिक्स, केमेस्ट्री, बॉयोलॉजी कि पढ़ाई करना है ओ भी मन लगाके क्यों की एंट्रेंस एग्जाम में यहाँ से ही प्रश्न पूछे जाते है ताकि अच्छे अंक प्राप्त हो और आपका नंबर MBBS को लग सके. MBBS पूरा होने के बाद आप MD प्रोग्राम के लिए तैयार होते है.तो चलिए दोस्तों जानते है medical doctor (MD) kaise bane?


एमडी फुल फॉर्म:MD Full Form 
  • एम डी- MD-(डॉक्टर ऑफ़ मेडिसिन-Doctor of medicine)   

एमडी परिभाषा : MD Definition
  • ''Doctor of medicine'' यह शब्द लैटिन भाषा के ''Medicine doctor'' से लिया गया है जिसका हिंदी में अर्थ आयर्विज्ञान चिकित्सक होता है.
  • डॉक्टर ऑफ मेडिसिन एक स्नातकोत्तर डिग्री है जो चिकित्सा के क्षेत्र में एक पाठ्यक्रम या कार्यक्रम के लिए प्रदान की जाती है. MD डिग्री प्राप्त करने के बाद उसे मेडिसिन की जानकारी प्राप्त होती है. MD को दवा बनाने के फार्मूले पता रहते है. MD अपने अनुसार दवा बना सकता है. 
  • एमडी मेडिसिन पाठ्यक्रम में चिकित्सा का विस्तार से अध्ययन किया जाता है. यह चिकित्सा धारा के तहत विशिष्टताओं में से एक है जो भविष्य के डॉक्टरों को सिखाता है और तैयार करता है. इस अध्ययन के दौरान, वयस्क रोगों की रोकथाम, निदान और उपचार होता है. 
  • मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया वह प्राधिकरण है जो विभिन्न संस्थानों को डॉक्टर ऑफ़ मेडिसिन की उपाधि प्रदान करने के लिए मान्यता देता है और मान्यता प्रदान करता है, भारत भर के मेडिकल स्कूलों और कॉलेजों द्वारा एमडी डिग्री प्रदान की जाती है.
  • यदि कोई छात्र मेडिकल क्षेत्र में विशेज्ञन बनना चाहता है और उसके पास MBBS की डिग्री है वह छात्र MD प्रोग्राम कर सकता है.  
  • MD मेडिकल फिल्ड की सबसे highest degree है. अर्थात post-graduation  कोर्स कहते है. यह डिग्री medical और surgery की field में विशेषज्ञता हासिल करने के लिए की जाती है.




एमडी शैक्षिक योग्यता:MD Educational Qualification

  • छात्रों ने जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान और भौतिकी जैसे विषयों के साथ अपनी उच्च माध्यमिक या 10 + 2 स्तर की शिक्षा पूरी की होगी
  • छात्र ने एक प्रतिष्ठित कॉलेज या संस्थान से एमबीबीएस (बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी) को सफलतापूर्वक पूरा किया होगा. एमबीबीएस 5 साल 6 माह का कोर्स है और इसमें एक साल की इंटर्नशिप अवधि भी शामिल है.
  • व्यक्ति अपने चुने हुए क्षेत्र में एमडी के लिए जाने के लिए पात्र है. इस कोर्स के लिए प्रवेश पाने के लिए उन्हें एक और प्रवेश परीक्षा (entrance examinations) में शामिल होना होगा. 

एमडी प्रवेश परीक्षा: MD entrance exam 
  • अखिल भारतीय D.M / M.Ch. प्रवेश परीक्षा (All India D.M / M.Ch. Entrance Examination)
  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान प्रवेश परीक्षा (AIIMS) (All India Institute of Medical Science Entrance Exam (AIIMS))
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (Banaras Hindu University Entrance Exam)
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी सुपर स्पेशलिटी एंट्रेंस टेस्ट - DUMET (Delhi University Super Specialty Entrance Test – DUMET)
  • मानव व्यवहार और संबद्ध विज्ञान संस्थान (IHBAS) (Institute Of Human Behavior and Allied Sciences (IHBAS))

एमडी कोर्स: MD course 

एमडी कोर की अवधि 3 साल की रहती है और 6 सेमिस्टर होते है. एमडी के लिए निम्नलिखित कोर्स है  इस कोर्स में से आपको जिस कार्स में MD करना है उस कोर्स का चुनाव करना है.
  • MD.Forensic Medicine:एमडी.फोरेंसिक मेडिसिन
  • MD.Homeopathic Organon of Medicine:एमडी.होमोपैथिक ऑर्गन ऑफ मेडिसिन
  • MD.Physical Medicine and Rehabilitation:एमडी.फिजिकल मेडिसिन एंड रिहैबिलिटेशन
  • MD. Cardiology:कार्डियोलॉजी
  • MD.Clinical Haematology:क्लीनिकल हेमाटोलोग्य
  • MD.Clinical Pharmacology:क्लीनिकल फार्माकोलॉजी
  • MD.Endocrinology:एंडोक्रिनोलोग्य
  • MD.Gastroenterology:गैस्ट्रोएंटरोलॉजी 
  • MD.Medical Gastroenterology:मेडिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
  • MD.Medical Oncology:मेडिकल ऑन्कोलॉजी
  • MD.Neonatology:नोनटोलोग्य
  • MD.Nephrology:नेफ्रोलॉजी
  • MD.Neurology:न्यूरोलॉजी
  • MD.Neuro Radiology:न्यूरो रेडियोलोजी
  • MD. Pulmonary Medicine:पल्मोनरी मेडिसिन 
  • MD.Rheumatology:रहेउमाटोलोग्य


Semester 1
  • Applied basic science knowledge
  • Diseases with reference to General Medicine
  • Recent advances in Medicine

Semester 2
  • Biostatistics and clinical epidemiology
  • Diagnostic investigation and procedures

Semester 3
  • Monitoring seriously ill patients
  • Counseling patients and relatives
  • Ability to teach undergraduate students

Semester 4
  • Ability to carry out research
  • Ward patient management
  • OPD patient management

Semester 5
  • Long and short topic presentations
  • Ward rounds, case presentations, and discussions
  • Clinico-radiological and clinicopathological conferences

Semester 6
  • Journal conferences
  • PG case presentation skills
  • Research review

यह भी पढ़े: 


MD कोर्स करने के फायदे: MD Course Benefits

  • आप पोस्ट ग्रेज्युवेट
  • सर्जन डॉक्टर,
  • हॉस्पिटल में जॉब ,
  • विदेश में जॉब ,
  • या फिर खुद का हॉस्पिटल चालू कर सकते है. 

Jobs & Careers


  • हेल्थ सेंटर्स, हॉस्पिटल्स (Health centers, hospitals)
  • लैबोरेट्रीज (Laboratories)
  • मेडिकल कॉलेजेस Medical colleges)
  •  मेडिकल फाउंडेशन / ट्रस्ट (Medical Foundation / Trust)
  • रिसर्च इंस्टीटूट्स (Research institutes)
  • नॉन-प्रॉफिट ऑर्गनिज़तिओन्स (Non-profit Organizations)
  • नर्सिंग होम्स (Nursing homes)
  • फार्मास्यूटिकल एंड बायोटेक्नोलॉजी कम्पनीज (Pharmaceutical and Biotechnology Companies)
  • गयनेकोलॉजिस्ट (Gynaecologist)
  • हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर (Hospital Administrator)
  • रेडियोलाजिस्ट (Radiologist)
  • एनेस्थेटिस्ट और अनेस्थेसिओलॉजिस्ट्स (Anesthetist or Anaesthesiologists)
  • बक्टेरिओलॉजिस्ट (Bacteriologist।)
  • कार्डियोलॉजिस्ट (Cardiologist।)
  • चिरोपोडिस्ट (Chiropodist)
  • एन्टेरोलॉजिस्ट (Enterologist)
  • गैस्ट्रोएन्टेरोलॉजिस्ट (Gastroenterologist)
  • जनरल प्रैक्टिशनर (General Practitioner)
  • जनरल सर्जन (General Surgeon)
  • फिजिशियन (Physician)
  • फिजियोलॉजिस्ट (Physiologist)
  • चीफ मेडिकल अफसर (Chief Medical Officer (CMO)
  • क्लीनिकल लेबोरेटरी साइंटिस्ट (Clinical Laboratory Scientist)
  • डर्मेटोलॉजिस्ट (Dermatologist)
  • E.N.T स्पेशलिस्ट (E.N.T Specialist)

यह भी पढ़े :

Postscript: अनुलेख

Post Name: medical doctor (MD) Kaise bane? :मेडिकल डॉक्टर (एमडी) Kaise bane?

Description :  12 वीं के बाद छात्रों के जीवन में एक महत्वपूर्ण चरण होता है. 12 वीं के बाद लिया गया कोर्स भविष्य में उनके करियर की नींव है. इसलिए, छात्रों के लिए महत्वपूर्ण कैरियर विकल्पों का ज्ञान होना आवश्यक है. MD बनने के लिए आपको 10 वीं से ही अपना सपना पूरा करने की कोशिस में लगना चाहिए.

Author: अमित 

Tags: आयुर्विज्ञान doctor कैसे बनें?, वैद्यकीय doctor MD कैसे बनें?, medical doctor (MD) Kaise bane?