What is space science?:अंतरिक्ष विज्ञान क्या है?

इसरो में करियर कैसे बनाएं? (isro me careerkaise banaye?), नासा में करियर कैसे बनाये? (nasa me career kaise banaye?), अंतरिक्ष में भविष्य (करियर) कैसे बनाएं?(antariksh me future (career) kaise banye?) आइयें जानें अंतरिक्ष विज्ञान क्या है?(antariksh vigyan kya hai?)

अगर आप साइंस में दिलचस्पी रखते हैं, अंतरिक्ष विज्ञान में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो भारतीय अंतिरक्ष अनुसंधान संगठन में (ISRO - Indian Space Research Organisation) आपके लिए सुनहरे अवसर है.नए विज्ञान अनुसंधान ने भी युवाओं के लिए करियर की राह आसान की है. विज्ञान की विभिन्न शाखाओं ने भी कैरियर के रास्ते खोले हैं. ऐसा ही एक क्षेत्र है अंतरिक्ष.


What is space science?:अंतरिक्ष विज्ञान क्या है?



यह भी पढ़े:

हर कोई अपने करियर में आसमान की ऊंचाइयों को छूने का सपना देखता है, लेकिन दुनिया में बहुत कम लोग हैं जो आकाश की ऊचाइयों में अपना करियर बनाना चाहते हैं. हां, अंतरिक्ष के क्षेत्र में करियर बनाना कोई आसान बात नहीं है, फिर भी आज भी कई युवा ऐसे हैं जो अंतरिक्ष से जुड़े रहस्यों को जानने में काफी दिलचस्पी रखते हैं और इसमें बेहतर भविष्य देखते हैं. यदि आप भी अंतरिक्ष विज्ञान के साथ अध्ययन करने के लिए आगे बढ़ते हैं, तो आपके पास इससे जुड़े कई रोजगार के अवसर हैं.

प्रस्तावना: Preface

उपग्रह या नई तकनीक के माध्यम से मौसम या ग्रहों के बारे में सटीक जानकारी प्रदान करना अब आसान हो गया है. वायुमंडल या पृथ्वी की गति का पता लगाना भी आसान हो गया है. यह सब 'स्पेस साइंस' द्वारा संभव किया गया है. साल दर साल इसमें नई चीजें जुड़ती जा रही हैं. इसमें, उन्नत कंप्यूटर और सुपर कंप्यूटर से डेटा एकत्र किया जाता है. डेटा की अनुपलब्धता के मामले में, एक मूल्यांकन के माध्यम से एक निष्कर्ष पर पहुंचने का प्रयास किया जाता है. इस काम में शामिल पेशेवरों को वैज्ञानिक कहा जाता है. इस क्षेत्र में युवाओं को रोजगार के ढेरों विकल्प है.

विशाल ब्रह्मांड आपको किस ओर आकर्षित करता है? क्या आपको ब्रह्मांड के रहस्यों को सुलझाने का शौक है? क्या धैर्य और बुद्धिमत्ता आपका प्लस पॉइंट है? यदि हाँ, तो खगोल विज्ञान आपको बुला रहा है. इस क्षेत्र में भारत द्वारा की गई उपलब्धियों को देखते हुए, न केवल देश में बल्कि विदेशों में भी भारतीय अंतरिक्ष वैज्ञानिकों की बहुत मांग है.




अंतरिक्ष विज्ञान की परिभाषा: Definition of space science

अंतरिक्ष विज्ञान (एस्ट्रोनॉमी) विज्ञान की वह शाखा है, जिसके अंतर्गत पृथ्वी से परे करोड़ों ग्रहों, उपग्रहों, तारों, धूमकेतुओं, आकाशगंगाओं एवं अन्य अंतरिक्षीय पिंडों का अध्ययन किया जाता है. इसके अलावा अंतरिक्ष विज्ञान के अंतर्गत उन नियमों एवं प्रभावों का भी अध्ययन किया जाता है, जो इन्हें संचालित करते हैं. ब्रह्मांड में क्या चल रहा है इसमें ग्रहों, तारों, पृथ्वी और सौर मंडल की उत्पत्ति कैसे हुई आदि के बारे में भी अध्ययन किया जाता हैं. 


Skills:कौशल
  • आकाश में तारों के पैटर्न का अध्ययन, उनका संचलन आदि एक लंबा, बहुत समय लेने वाला और जटिल काम है. इसलिए धैर्य भी इस पेशे का पहला और सबसे महत्वपूर्ण गुण है. 
  • अगली महत्वपूर्ण विशेषता उत्सुक होना है. इस क्षेत्र में, रहस्यमय सवालों के जवाब पूरे आत्मविश्वास और उत्साह के साथ मिलने चाहिए.
  • एक प्रोग्रामिंग कौशल होना भी महत्वपूर्ण है.


शैक्षणिक योग्यता:Educational Qualifications

पालक वर्ग से मैं कहना चाहूंगा की अगर हमें अपने बच्चों को अंतरिक्ष विज्ञान में करियर बनाने के लिए उसे हम तैयार करते है तो उसके लिए हमें निम्नलिखित ग्रुप विषयों का चयन करना आवश्यक है.
  • यदि आप 10 में हो और आप अंतरिक्ष विज्ञान में एडमिशन लेने की रूचि है तो सबसे पहले आपको 11वीं कक्षा में गणित विषय समूह (फिजिक्स, केमिस्ट्री व मैथमेटिक्स) लेना होगा. 
  • 12वीं गणित समूह (फिजिक्स, केमिस्ट्री व मैथमेटिक्स) पास होना आवश्यक है. 
  •  बीएससी की डिग्री लेनी होगी, जहां आपके विषयों में मैथ्स, फिजिक, केमेस्ट्री भी होना जरूरी है. 
  • साइंस से स्नातक होने के बाद आप एस्ट्रोनॉमी थ्योरी या एस्ट्रोनॉमी ऑब्जर्वेशन कोर्स चुन सकते हैं. 
  • कई यूनिवर्सिटी स्पेस साइंस में ग्रेजुएट, पोस्टग्रेजुएट कोर्सेज भी करवाती हैं. कई संस्थानों में तो स्पेस साइंस को लेकर शोध भी किए जा रहे हैं.
  • इसरो में एमएससी, बीएससी, एमई और पीएचडी कर चुके स्टूडेंट्स के लिए बेहतरीन मौके हैं.
  • इसके अलावा, इसरों में बीएससी और डिप्लोमा कर चुके स्टूडेंट्स को भी एडमिशन मिलता है.
  • सैद्धांतिक खगोल विज्ञान या ऑब्जर्वेशंस में करिअर बनाने के लिए 10+2 के बाद बीएससी (फिजिक्स या मैथमेटिक्स) करना अच्छा रहेगा.
  • इसके बाद एस्ट्रोनॉमी में मास्टर्स लेवल का कोर्स, थ्योरीटिकल एस्ट्रोनॉमी के स्पेशलाइजेशन के साथ कर सकते हैं. यह कोर्स देश के चुनिंदा विश्वविद्यालयों और कुछ संस्थानों में उपलब्ध है.
  • अगर आप उपकरणीय या प्रायोगिक खगोल विज्ञान में करिअर बनाना चाहते हैं, तो 10+2 के बाद इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स या इलेक्ट्रिकल कम्युनिकेशंस में बीई कर सकते हैं.
  • खगोल विज्ञान में पीएचडी करने के लिए बीई के बाद जॉइंट एंट्रेंस स्क्रीनिंग टेस्ट (जेईएसटी) पास करना होगा.



कोर्स: Course
  • B.Tech in Space Science (4 years)
  • BSc in Space Science (3 years)
  • MTech in Space Science (two years)
  • MSc in Space Science (two years)
  • ME in Space Science (two years)
  • Ph.D. in Space Science (Three years

Career / Job 

सफलतापूर्वक कोर्स करने के बाद इस क्षेत्र में रोजगार के लिए भटकना नहीं पड़ता आपको निम्नलिखित जगह पर जॉब / रोजगर के अवसर ढेरों मौजूद रहते है.
  • अंतरिक्ष के आकाशीय पिंडों से संबंधित तमाम पहलू अभी तक अनछुए हैं. इन पहलुओं पर रोशनी डालने के हो रहे प्रयास रोजगारों की संभावनाएं पैदा करते हैं.
  • एस्ट्रोनॉमी में डिग्री हासिल करने वाले युवाओं के लिए नौकरी की तकरीबन गारंटी होती है. इस विषय के डिग्रीधारक सरकारी सेवाओं, निजी क्षेत्र, अध्यापन, रिसर्च या अंतरिक्ष वैज्ञानिक के रूप में न सिर्फ नौकरी पा सकते हैं, बल्कि कामयाबी का इतिहास भी लिख सकते हैं.
  • एस्ट्रोनॉमी के पेशेवर उपकरण निर्माण के साथ-साथ डेटा विश्लेषण व कंप्यूटर विशेषज्ञता पर आधारित कई तरह के रोजगार पा सकते हैं.
  • आप वाणिज्यिक और गैर वाणिज्यिक अनुसंधान, विकास एंव शोध प्रयोगशालाओं, वेधशालाओं, तारामंडल या साइंस पार्क समेत ऐसी अन्य जगहों पर भी नौकरी पा सकते हैं.
  • अध्यापन एवं शोध में भी इस क्षेत्र में नौकरी की अपार संभावनाएं हैं.
  • प्रोफेशनल्स को नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA), 
  • इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाइजेशन (ISRO)
  • डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन (DADO)
  • हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL)
  • नेशनल एयरोनॉटिकल लेबोरेटरी (NAL) 
  • अंतरिक्ष वैज्ञानिक (Space scientist)
  • खगोलविद  (Astronomer)
  • खगोल  (Astrophysicist)
  • मैटीरियोलॉजिस्ट (Materialologist) 
  • गुणवत्ता आश्वासन विशेषज्ञ  (Quality Assurance Specialist)
  • रडार तकनीशियन  (Radar technician)
  • रोबोट तकनीशियन (Robotic technician)
  • सैटेलाइट तकनीशियन (Satellite technician)
  • भूविज्ञानी  (Geologist)

Salary:सैलरी
  • स्पेस साइंस कोर्स पूरा होने के बाद आप स्पेस साइंटिस्ट बन जाते हो और आपकी सुरवती वेतन 30 ते 35 हजार रु हो सकती है. 
  • अनुभव के आधार पर वेतन 40 से 50 हजार हो सकती है.  
  • लाखो के ऊपर पॅकेज भी रहते है. 
  • विदेशो में भी पॅकेज अच्छे रहते है.  


स्पेस साइंस के बारे में....  About space science......
  • खगोल(Astronomy) : सूर्य, चंद्रमा, तारों, ग्रहों, धूमकेतु, आकाशगंगाओं आदि का अध्ययन करने का विज्ञान है.
  • खगोल भौतिकी (Astrophysics) : तारों के जन्म-मृत्यु व जीवन, ग्रह, आकाश गंगा एवं सौर मंडल के अन्य तत्वों का अध्ययन भौतिकी व रसायन शास्त्र के नियमों के आधार पर किया जाता है.
  • ब्रह्मांड विज्ञान(Cosmology) : ब्रह्मांड की उत्पत्ति से लेकर उसके विस्तार तक की पूरी प्रक्रिया पर अध्ययन किया जाता है. 
  • ग्रह विज्ञान (Planetary Science) :  सौर मंडल में उपग्रह और अन्य ग्रहों को समझने की क्षमता का विस्तार करता है. इसमें छात्र ग्रहों की सतह से लेकर इंटीरियर तक के वातावरण का अध्ययन करते हैं.
  • तारकीय विज्ञान (Stellar science) : सौर मंडल के सभी तारों को एक विशेष पैरामीटर के तहत व्यवस्थित किया जाता है. इनमें से कई सूर्य की स्थिति पर निर्भर करते हैं. इसका अध्ययन स्टेलर साइंस में किया जाता है.

संस्थान : institute
  • इंस्टीट्यूट ऑफ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी, तिरुवनंतपुरम
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स, बेंगलुरू
  • इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स, पुणे
  • रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट, बेंगलुरू
  • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, मुंबई
  • उस्मानिया यूनिवर्सिटी, हैदराबाद
  • रेडियो एस्ट्रोनॉमी सेंटर, तमिलनाडु
 पांच सितारा और सात सितारा में भविष्य बनाएं
◾ बी एस सी नर्सिंग में भविष्य बनाएं 
◾ ANM में 12 वि के बाद भविष्य बनाएं 
◾ GNM में 12 वी के बाद भविष्य बनाएं 
◾ डी फार्मा में 12 वीं के बाद भविष्य बनाएं 
 डेंटिस्ट, BDS कैसे बने ?

Postscript: अनुलेख

Post Name: What is space science?:अंतरिक्ष विज्ञान क्या है?

Description : अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के लिए क्या करें? अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनने के लिए कितना खर्च होता है? अगर आप अंतरिक्ष वैज्ञानिक बनना चाहते हैं, तो आपको बस कड़ी मेहनत करनी होगी, अंतरिक्ष वैज्ञानिक में बहुत अच्छा करियर बनाया जा सकता है. वैज्ञानिक बनने के बाद, आप लोगों का आशीर्वाद कमाते हैं, जिसे पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है, जो पेशे में बहुत कम देखा जाता है. अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें.

Author: अमित 

Tags: space science kya hai? 

Space Science के लिए बुक 
                                                                                
             
Share on Google Plus

About Blog Admin

He is CEO and Faunder of www.pravingyan.com He writes on this blog about Tech, Poems, Love story, General knowledge, Earn money, Helth tips, Great lord and motivational stories. He do share on this blog regularly.